ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News झारखंडपत्नी के साथ अवैध संबंध से तंग आकर मकसूद ने हत्या की रची थी साजिश

पत्नी के साथ अवैध संबंध से तंग आकर मकसूद ने हत्या की रची थी साजिश

गिरिडीह। उत्तर प्रदेश के भदोही जिले के गोपीगंज थाना क्षेत्र के कोलापुर निवासी सत्येन्द्रनाथ मिश्रा उर्फ पंडित की हत्या की साजिश पत्नी के साथ अवैध...

पत्नी के साथ अवैध संबंध से तंग आकर मकसूद ने हत्या की रची थी साजिश
हिन्दुस्तान टीम,गिरडीहThu, 13 Jun 2024 02:15 AM
ऐप पर पढ़ें

संदीप वर्मा
गिरिडीह। उत्तर प्रदेश के भदोही जिले के गोपीगंज थाना क्षेत्र के कोलापुर निवासी सत्येन्द्रनाथ मिश्रा उर्फ पंडित की हत्या की साजिश पत्नी के साथ अवैध संबंध से तंग आकर दोषी ठहराये गये आरोपी मकसूद अंसारी ने रची थी। लगभग पौने चार साल में इस मामले में अदालत का फैसला आया है। पुलिस ने कड़ी मशक्कत कर इस मामले का उद्भेदन किया था। मामले के उद्भेदन में पुलिस को लगभग 12 दिन लग गये थे। 10 दिन पुलिस को मृतक के शव की शिनाख्त करने में लग गयी थी। हालांकि इसके बाद पुलिस ने इस हत्याकांड में जो खुलासा किया वह चौंकानेवाला था। 29-30 अगस्त 2020 की रात बाइक से ही सत्येन्द्रनाथ अपने दोस्त के साथ मोर्हरम त्योहर देखने के लिए अपने गांव कोलापुर से झारखण्ड जाने की बात घर में बताकर निकला था।

सत्येन्द्रनाथ से मकसूद ने लिया था दो लाख उधार

मकसूद अंसारी एवं इब्राहिम गांव के अन्य लोगों के साथ यूपी के भदोही जिले के कोलापुर में रहकर राजमिस्त्री का काम करता था। वहीं पर सत्येन्द्रनाथ से इन लोगों की दोस्ती हो गयी थी। मकसूद अंसारी ने सत्येन्द्रनाथ से दो लाख रूपए उधार लिया था जिसे मांगने के बहाने सत्येन्द्रनाथ उसके घर आने जाने लगा था। इसी दौरान मकसूद की पत्नी के साथ उसका अवैध संबंध हो गया था और मकसूद की गैर मौजुद्गी में सत्येन्द्रनाथ उसकी पत्नी से मिलने अक्सर आने लगा। इस बात की जानकारी आस-पास के लोगों व बच्चों के माध्यम से मकसूद को हो गई थी। इसके बाद मकसूद सत्येन्द्रनाथ को घर आने से मना कर दिया। इसके बावजूद वह मकसूद की अनुपस्थिति में उसकी पत्नी से मिलता-जुलता था। पत्नी पर हो रहे अत्याचार से वह तंग था। पंडित के इस व्यवहार से वह परेशान होकर षडयंत्र कर उसे धोखे से परसन के जमुनियाटांड़ लाकर हत्या कर दी।

यूपी से बाइक पर लाए थे बैठाकर

पंडित को बाइक पर बैठाकर मकसूद व इब्राहिम डेहरी, बरही व सरिया होकर लाए थे। आते वक्त सरिया रेलवे फाटक के पास से अंग्रेजी शराब व चिकेन चिल्ली भी इन लोगों ने लिया था। मकसूद ने पुलिस को बताया था कि 30 अगस्त 2020 की रात करीब साढ़े ग्यारह बजे वह, इब्राहिम व पंडित झारखण्डधाम मोड़ पर पहुंचे। वहां झारखण्डी स्कूल के पास पहले से उसके तीन अन्य लोग एक बाइक लेकर खड़े थे। सभी एक साथ मिलकर जमुनियाटांड़ मैदान में बैठकर गांजा और शराब पी। पंडित को ज्यादा नशा हो जाने के बाद चाकू से उसकी गर्दन काट कर अलग कर दी गई। उसका पहचान छुपाने के लिए सिर को धड़ से अलग कर दूर पानी भरे डोभा में डाल दिया ताकि उसकी पहचान नहीं हो सके।

सबूत मिटाने के लिए जलाया था सामान व खून लगा कपड़ा

मकसूद ने पुलिस को बताया था कि हत्या के बाद पंडित का पर्स, मोबाइल, बैग वगैरह तथा वह अपना व इब्राहिम का खून लगा कपड़ा खोलकर रात में ही घर के पास जला दिया था। हालांकि मकसूद अंसारी के पास से पुलिस ने उस दौरान हत्या के षडयंत्र में प्रयुक्त मोबाइल एवं बाइक, इब्राहिम अंसारी की निशानदेही पर मृतक का मोबाइल, बेल्ट, पर्स व अभियुक्तों के खून लगा कपड़ा के जले अवशेष बरामद किया था। वहीं अन्य के पास से घटना व योजना में प्रयुक्त तीन मोबाइल व एक बाइक बरामद हुआ था।

यह हिन्दुस्तान अखबार की ऑटेमेटेड न्यूज फीड है, इसे लाइव हिन्दुस्तान की टीम ने संपादित नहीं किया है।