class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

गिरिडीह: तिलकुट की खुशबू से महका बाजार

गिरिडीह: तिलकुट की खुशबू से महका बाजार

1 / 2मकर संक्रांति को लेकर तिल-गुड़ की सोंधी खुशबू से बाजार गुलजार है। स्थानीय कारीगरों के अलावा गया, नवादा, वारसलीगंज, नालन्दा आदि जगहों के कारीगर तिलकुट बनाने में लगे हुये हैं। शहर के हर चौक-चौराहों पर...

गिरिडीह: तिलकुट की खुशबू से महका बाजार

2 / 2मकर संक्रांति को लेकर तिल-गुड़ की सोंधी खुशबू से बाजार गुलजार है। स्थानीय कारीगरों के अलावा गया, नवादा, वारसलीगंज, नालन्दा आदि जगहों के कारीगर तिलकुट बनाने में लगे हुये हैं। शहर के हर चौक-चौराहों पर...

PreviousNext

मकर संक्रांति को लेकर तिल-गुड़ की सोंधी खुशबू से बाजार गुलजार है। स्थानीय कारीगरों के अलावा गया, नवादा, वारसलीगंज, नालन्दा आदि जगहों के कारीगर तिलकुट बनाने में लगे हुये हैं। शहर के हर चौक-चौराहों पर चूड़ा, तिलकुट और लाई की दुकानें सज गयी है।

वैसे तो एक माह पूर्व से ही तिलकुट की दुकानें सज गई थी लेकिन जनवरी शुरू होते ही तिलकुट की बिक्री तेज हो गयी है। शहर के बड़ा चौक, बरवाडीह, गांधी चौक, काली बाड़ी, मकतपुर, बरगंडा, शाहाबादी मार्केट, सिहोडीह, अलकापुरी, पचंबा आदि जगहों पर सड़क किनारे 50 से अधिक अस्थायी दुकानें लगायी गयी है। लोग तिलकुट की खरीदारी में जुट गये हैं। बड़ा चौक स्थित तिलकुट दुकानदार जितेन्द्र कुमार ने बताया कि तिलकुट बनाने को लेकर दो माह पूर्व से 8 कारीगर लगे हुये हैं। मकर संक्रांति को लेकर जनवरी महीने में प्रतिदिन 100 किलो तिलकुट की ब्रिक्री होती है। बताया कि तिलकुट के कई वेरायटी तैयार किये गए हैं। जिसमें चांद प्लेन, कटोरी, खास्ता, स्पेशल, गुड़ तिलकुट, खोवा, पापड़ी, रहुरी आदि तिलकुट कि डिमांड बाजार में है। बताया कि खोया तिलकुट लोगों को खूब भा रहा है। 120 रुपये से लेकर 400 रुपये तक प्रति किलो तक के तिलकुट बाजार में बिक रहे हैं। तिलकुट की खरीदारी कर रहे रामनारायण सिंह ने कहा कि ठंड के दिनों में तिलकुट खाना सेहत के लिए अच्छा माना जाता है। खोवा तिलकुट कुछ महंगा है लेकिन इसका स्वाद खूब भाता है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Giridih: the fragrance of the sweet potato market
बाजारों में छा गई हैं रंग-बिरंगी पतंगेंजीत पर अभाविप ने निकाला विजय जुलूस