Recommendation of action against the culprits - कस्तूरबा गांधी स्कूल के दोषियों के खिलाफ कार्रवाई की अनुशंसा DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

कस्तूरबा गांधी स्कूल के दोषियों के खिलाफ कार्रवाई की अनुशंसा


कस्तूरबा गांधी स्कूल के दोषियों के खिलाफ कार्रवाई की अनुशंसा

डीसी श्रवण साय ने कस्तूरबा गांधी बालिका आवासीय विद्यालय, पालकोट की अव्यस्था और मानकों की अनदेखी को गंभीरता से लिया है। चार जुलाई को स्वयं स्कूल पहुंचकर जांच की थी। जांच में खामियां उजागर होने के बाद डीसी ने स्कूली शिक्षा एवं साक्षरता विभाग की सचिव आराधना पटनायक को पत्र भेजकर कार्रवाई का अनुरोध किया है। बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ का सरकारी नारा झूठा साबित हो रहा है। कुछ माह पहले पालकोट के इसी विद्यालय की प्रिया कुमारी नामक छात्रा द्वारा आत्महत्या करने के बाद विद्यालय की वार्डेन को सेवामुक्त कर दिया गया था। वार्डेन की जगह कस्तूरबा विद्यालय डुमरी की शिक्षिका कमला कुमारी की इस स्कूल में वार्डेन के तौर पर तैनाती की। कमला द्वारा वार्डेन का पदभार संभालने के बाद भी शिकायतें जस की तस बनी हैं। इसके बाद डीसी ने जिले के सभी कस्तूरबा विद्यालयों में जांच के लिए एक विशेष जांच दल का गठन किया था। स्वयं डीसी के नेतृत्व में एक टीम ने विद्यालय की जांच की। जांच दल बीडीओ और बीईईओ भी शामिल थे। जांच के दिन विद्यालय में कोई वार्डेन कार्यरत नहीं होने पर डीसी ने डीएसई गनौरी मिस्त्री से पूछताछ की। उन्होंने डीसी को बताया कि वार्डेन कमला कुमारी की मिल रही शिकायतों के बाद उन्हें पुन: डुमरी भेज दिया। एक जुलाई से कस्तूरबा विद्यालय बसिया की शिक्षिका रश्मि एक्का को वार्डेन के रूप में प्रतिनियुक्त किया गया था। उन्होंने उस तिथि तक योगदान नहीं दिया है। वहीं वार्डेन की अनुपस्थिति को डीसी ने गंभीरता से लिया। विद्यालय के भूगोल शिक्षक त्रिलोचन मिश्र, कंप्यूटर ऑपरेटर सुबोध कुमार और रसोइया अनीता देवी भी अनुपस्थित थे। डीसी ने विद्यालय के कमरे में बंद कर रखे गए टैब, पुस्तक तथा पोशाक अभी तक नहीं बांटने को आपत्तिजनक बताया है और गहरी नाराजगी जताई है। कक्षा छह,11वीं में नामांकन नहीं गुमला। विद्यालय में छठी तथा 11वीं क्लास में अभी तक एक भी छात्रा का नामांकन नहीं लिया गया है। निरीक्षण में नामांकित 302 छात्राओं में से 64 छात्राएं अनुपस्थित थी। ग्रीष्मावकाश के बाद कई छात्राएं अब तक विद्यालय नहीं लौटी हैं। डीएसई गनौरी मिस्त्री द्वारा स्कूल का निरीक्षण नहीं करने से कई खामियां होने की बात डीसी ने कही है। चालू हालत में पाया गया सीसीटीवी पूर्व वार्डेन कमला कुमारी ने सीसीटीवी खराब होने का प्रतिवेदन दिया था, कार्यरत शिक्षक और गार्ड ने भी स्कूल में लगे सीसीटीवी खराब होने की बात कही। डीसी ने सीसीटीवी की जांच कराई, तो वह चालू हालत में पाया गया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Recommendation of action against the culprits