DA Image
1 दिसंबर, 2020|2:05|IST

अगली स्टोरी

डीजीपी राव मृतक भाई-बहन के परिजनो के साथ घटना स्थल का किया मुआयना

default image

झारखंड पुलिस के डीजीपी एमवी राव शनिवार को चर्चित सगे भाई बहन हत्या कांड को लेकर कोटामाटी रोड स्थित अड़िया नदी पुल पहुंच अगवा किये गए घटना स्थल मुआयना किया। इससे पूर्व उन्होने घटना स्थल का निरीक्षण किया और पीड़ित परिवार के रामकिशुन भगत,चम्पा भगत अरविंद भगत और देवकी देवी से उनके पैतृक आवास पर जाकर मिले। डीजीपी ने पीड़ित परिजन से घटना की विभिन्न पहलुओं पर जानकारी ली। मृतक संजीव रंजन भगत और ममता खाखा के लोहरदगा से अपने पैतृक घर कोटामाटी आने,रुकने और पुनः कोटामाटी से लोहरदगा जाने के संबंध में पूछताछ की। गांव में चोरी और लूटपाट की घटनाओं के बाबत भी पीड़ित परिजनों से जानकारी ली। डीजीपी श्री राव मृतक के परिजन चम्पा भगत और अरविंद भगत को अपने साथ लेकर घटना स्थल चुंदरी नवाटोली पहुंच पुलिस पदाधिकारियों के साथ हत्या किए जाने वाले घटना स्थल पर तहकीकात की। दोनो मृतकों के घटना स्थल पर पड़े शव को लेकर आईजीी अभियान साकेत, सिंह, जगुआर डीआईजी कुलदीप द्विवेदी ,डीआईजी अखिलेश झा, एसपी हूदीप पी जनार्दनन के साथ हत्या के विभिन्न विन्दुओं पर जांच की। पुनः डीजीपी का काफिला घाघरा पाकरटोली,घाघरा मुख्य पथ, घाघरा छठ नगर सहित अन्य स्थानों पर जाकर अनुसंधान किया। इस दौरान पाकरटोली में होटल, किराना दुकान, मुर्गा व्यवसायी, घाघरा मुख्य पथ में एक मार्केट कम्प्लेक्स, छठ नगर के कई घरों में डीजीपी श्री राव द्वारा ग्रामीणों से पूछताछ कर घटना की जांच की। मृतको का वाहन घटना को अंजाम देने के बाद रात में छठ नगर भी घुसा था। डीजीपी राव ने थाना में पत्रकारों से चर्चित सगे भाई बहन हत्याकांड के बारे में बताया कि पुलिस विभिन्न पहलुओं पर घटना की पूरी गहनता से जांच कर रही है। शीघ्र ही अपराधी गिरफ्तार होंगे। ग्रामीण छोटी बड़ी सभी आपराधिक घटनाओं और असामाजिक गतिविधि की जानकारी पुलिस को दें जिससे अपराधी पुलिस गिरफ्त में आ सके। उन्होंने यह भी कहा कि ग्रामीणों द्वारा जानकारी दिए जाने वालों का नाम गुप्त रखा जाएगा।

परिवार के लोगों को न्याय मिलने की जगी उम्मीद

डीजीपी एमवी राव ने घाघरा में घटित सगे भाई बहन दोहरे हत्या कांड का अनुसंधान स्वंय किया और परिजनों से घटना के बाबत पूछताछ की।उन्होंने घटना से जुड़े हर एक पहलू की जानकारी मृतक के परिजनों से ली। जिससे परिजनों में जल्द अपराधियों की गिरफ्तारी और न्याय की आस जगी। डीजीपी राव के अनुसंधान में आने से इस हत्या कांड का शीघ्र ही उद्भेदन होने की उम्मीद है। सगे भाई बहन दोहरे हत्याकांड के एक सप्ताह पूरी होने पर अपराधियों की गिरफ्तारी न होने से डीजीपी ने स्वेयघटना स्थल पहुच अनुसंधान में कई दिशा निर्देश भी दिया है।

परिजनों के शिकायत पर डीजीपी ने लोहरदगा के थाना प्रभारी निलंबित करने का दिया निर्देश

कोटामाटी पहुंचे डीपीजी एमवी राव को संजीव भगत और ममता खाखा के परिजनों डीजीपी एमवी राव ने बताया की जब संजीव और ममता देर रात तक लोहरदगा नही पहुंचे तो रात्रि में ही उनके परिजन लोहरदगा थाना पहुंच लिखित रूप में घटना की जानकारी दी। इस बात पर डीजीपी श्री राव ने तत्काल लोहरदगा के एसपी प्रियंका मीणा को दूरभाष पर लोहरदगा के थाना प्रभारी को तत्काल निलंबित करने एवं बर्खास्तगी के लिए विभागीय कार्रवाई शुरू करने का निर्देश दिया। उन्होंने यह भी कहा कि ऐसे अधिकारी रहेंगे तो हमलोग की भी नौकरी खतरे में आ जायेगी।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:DGP Rao inspected the scene of the incident with the relatives of the deceased siblings