DA Image
23 सितम्बर, 2020|6:32|IST

अगली स्टोरी

जबरन ऋण की वसूली के विरोध मे महिलाओं ने दिया धरना

default image

निजी कंपनियों द्वारा लॉकडाउन के दौरान जबरन लोन की कस्ति अदा करने के विरोध में सोमवार को कोकपाड़ा की कई महिला समूह ने रँकिनी मंदिर के सामने धरना देकर विरोध प्रदर्शन किया। महिलाओं का कहना था कि लॉक डाउन होने के कारण उनका कारोबार पूरी तरह ठप है। ऐसी स्थिति में वे ब्याज की कस्ति नहीं चुका पाएंगी। महिलाओं ने कई निजी कंपनियों से लोन ले रखा है। इस बारे में महिला समूह की झुनू सीट, सविता दास, सविता साव, चंपावती सामल, कमला कालिंदी, मंजू रानी कालिंदी, रानू बाला कालिंदी, सुमत्रिा कालिंदी, गुलाबी कालिंदी, छाया बेरा, पूजा देहरी, पिंकी लोहार, सीमा नामाता, ज्योत्सना बेहरा आदि ने बताया कि लॉकडाउन होने के कारण ऋण लेकर शुरू किया गया उनका व्यवसाय बंद हो गया। जिसके कारण वे कस्ति नहीं दे पा रही हैं। लेकिन निजी कंपनियों के कर्मचारियों द्वारा जबरन ऋण की कस्ति की वसूली की जा रही है। जिसके कारण उन्हें काफी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है । उन्होंने मांग की है कि लॉकडाउन खुलने के 6 महीना बाद वे अपनी कस्ति बिना ब्याज के दे पाएंगे। इस बारे में पूर्व में महिलाओं ने एसडीओ, बीडीओ एवं थाना प्रभारी को ज्ञापन सौंपा है।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Women protest against forced loan recovery