DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

भोक्ता बहादुर की मृत्यु ने 2013 की एचसीएल में मजदूरों की बहाली की मांग को किया जिंदा

बीते 25 मई को एचसीएल को लेबर सप्लाई करने वाली ओरियन कंपनी में बिजली मिसत्री के रूप में कार्यरत 69 वर्षीय भक्ते बहादुर की एचसीएल के बनालोपा बिजली सब स्टेशन में कार्य का दौरान करंट लगने से मृत्यु हो गई थी। ये मामला अब तूल पकड़ने लगा है।

मंगलवार को झामुमो के मुसाबनी प्रखण्ड कार्यालय में झामुमो के जिला अध्यक्ष सह पूर्व विधायक रामदास सोरेन ने प्रेस कांफ्रेंस कर भोक्ता बहादुर के परिवार को इंसाफ दिलाने के लिए चरणबद्ध आंदोलन की घोषणा करते हुए कहा कि भोक्ता बहादुर की आकस्मिक मृत्यु के लिए एचसीएल के जीएम श्याम सुंदर शेट्टी और ओरियन कंपनी के जीएम दोषी हैं। उन्होंने कहा कि जब वे विधायक थे तो 2013 में एचसीएल में स्थाई बहाली और 60 वर्ष के लोगों से काम न लेने को लेकर आंदोलन हुआ था। इसके बाद इस मुद्दे का समाधान निकालने को लेकर 4 फरवरी 2013 को अनुमंडल कार्यालय में तत्कालीन अनुमंडल पदाधिकारी की अध्यक्षता में वार्ता हुई थी।

प्रेस कॉन्फ्रेंस में रामदास सोरेन ने कहा कि उस समय की वार्ता में मेरे द्वारा रखे गए मुद्दों पर आजतक प्रबंधन ने अमल नहीं किया है। उन्होंने एचसीएल प्रबंधन पर आरोप लगाया कि आजतक पूर्व कर्मचारियों के 50 आश्रितों को नौकरी नहीं मिली है एवं नियम को ताक पर रखकर 60 वर्ष से ज़्यादा 69 वर्ष के भोक्ता बहादुर से जबरन कार्य कराया गया जिस कारण उनकी मृत्यु हुई। इसके लिए पूरी तरह से एचसीएल के जीएम और ओरियन कंपनी के जीएम जिम्मेवार हैं। रामदास सोरेन ने कहा कि भोक्ता बहादुर के एक आश्रित को पूर्व के 50 आश्रित में से पहली नौकरी एचसीएल में स्थाई तौर पर दी जाए और 10 लाख का मुआवजा एचसीएल कंपनी दें। उन्होंने कहा कि बुधवार को वे मुसाबनी थाना में एचसीएल के मौजूदा जीएम श्याम सुंदर शेट्टी और ओरियन कंपनी के जीएम पर प्राथमिकी दर्ज कराएंगे। उसके बाद एसडीएम से मिलकर 2013 में हुई वार्ता पर बात करेंगे। उपायुक्त से मिलकर सारे घटनाक्रम से अवगत कराकर भोक्ता बहादुर के परिवार को इंसाफ दिलाने की मांग करेंगे। इसके बाद भी अगर इंसाफ नहीं मिला तो झामुमो मुसाबनी बंद की घोषणा के साथ भोक्ता बहादुर के परिवार को इंसाफ दिलाने के लिए चरणबद्ध आंदोलन होगा। इस प्रेस वार्ता में झामुमो के केन्द्रीय कमिटी के सदस्य शंकर चंद्र हेम्ब्रम, कान्हू सामन्त, पूर्व मंत्री यदुनाथ बास्के, पार्षद बाघराय मार्डी, मुखिया प्रधान सोरेन, गोरांगो महाली, सोमाय सोरेन, रव्द्रिर नाथ मार्डी, वक्रिम मुर्मू, सालू मुर्मू, तपन कुंडू, ठाकुर मुर्मू, सुराई मुर्मू, रामू चटर्जी, बाबूलाल हेम्ब्रम, साधु हेम्ब्रम, प्रसाद सोरेन आदि उपस्थित थे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:The death of the devotee Bahadur did the demand for the restoration of the laborers in the 2013 HCL