DA Image
हिंदी न्यूज़ › झारखंड › घाटशिला › चाकुलिया प्रखंड की मालकुंडी पंचायत: स्वास्थ्य केंद्र में डॉक्टर नहीं, कई सड़कें हैं बदहाल
घाटशिला

चाकुलिया प्रखंड की मालकुंडी पंचायत: स्वास्थ्य केंद्र में डॉक्टर नहीं, कई सड़कें हैं बदहाल

हिन्दुस्तान टीम,घाटशिलाPublished By: Newswrap
Wed, 15 Sep 2021 04:11 AM
चाकुलिया प्रखंड की मालकुंडी पंचायत: स्वास्थ्य केंद्र में डॉक्टर नहीं, कई सड़कें हैं बदहाल

चाकुलिया। संवाददाता

चाकुलिया प्रखंड की मालकुंडी पंचायत में रहने वाले स्वास्थ्य, सड़क और बिजली-पानी जैसी मूलभूत सुविधाओं से वंचित हैं।

सिंदूरगौरी में प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र है, लेकिन लंबे अरसे से यहां चिकित्सक नहीं हैं। मसलन कंपाउंडर के भरोसे स्वास्थ्य केंद्र संचालित हो रहा है। इस पंचायत की कई प्रमुख सड़कें बदहाल हैं। जामडोल में पेपर मिल द्वारा छोड़ा जा रहा विषाक्त पानी भी किसानों के लिए परेशानी का सबब है।

इस पंचायत में 21 गांव और 13 वार्ड हैं। इसकी आबादी छह हजार है। चाकुलिया-धालभूमगढ़ मुख्य सड़क से टिटिहा से मालकुंडी जाने वाली सड़क इतनी जर्जर हो गई है कि इस पर पैदल चलना भी मुश्किल है। यह सड़क कई गांव से होकर गुजरती है और इस पंचायत की लाइफ लाइन है। इसी तरह जामडोल से सिंदूरगौरी स्थित प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र तक जाने वाली सड़क भी गड्ढों में तब्दील हो गई है। कई गांव के ग्रामीण परेशानी झेल रहे हैं। कई गांव और टोलों के ग्रामीण पेयजल के लिए परेशानी उठा रहे हैं। ग्रामीणों के मुताबिक सिंदूरगौरी में लगभग ढाई करोड़ की लागत से प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र भवन कई साल पूर्व बना। परंतु इसमें चिकित्सक का पदस्थापन नहीं किया गया है। इसके कारण ग्रामीणों को इलाज के लिए चाकुलिया या फिर अन्य किसी स्थान पर जाना पड़ता है। ग्रामीणों का कहना है कि जामडोल में स्थापित पेपर मिल परेशानी का कारण बना है। पेपर मिल से निकलने वाला पानी खेतों में बह रहा है। इसके कारण कई गांवों के किसानों को परेशानी हो रही है। फसलों पर भी बुरा प्रभाव पड़ रहा है। इसके खिलाफ किसानों ने कई बार आवाज उठाई,परंतु कोई पहल नहीं हुई।

चाकुलिया धालभूमगढ़ मुख्य सड़क से टिटिहा-मालकुंडी संपर्क पथ कई साल से जर्जर है। यह सड़क कई गांवों से होकर गुजरती है। सड़क जर्जर होने से ग्रामीणों को परेशानी हो रही है। इस सड़क की मरम्मत अति आवश्यक है।

संजय महतो, सिंदूरगौरी

पंचायत में विकास कार्य हुए हैं। परंतु पीएचसी का आलीशान भवन सिर्फ देखने के लिए है। इसमें चिकित्सकों का पदस्थापन नहीं है। कंपाउंडर के भरोसे प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र चल रहा है। ग्रामीणों को सरकारी चिकित्सा सुविधा का बेहतर लाभ नहीं मिल रहा है। इसमें चिकित्सक का पदस्थापन जरूरी है।

कंचन महतो, सिंदूरगौरी

मेरे टोला में पेयजल का संकट है। पानी लाने के लिए दूर जाना पड़ता है। इसके कारण महिलाओं को काफी परेशानी उठानी पड़ती है। जनप्रतिनिधि और जल स्वच्छता विभाग के पदाधिकारी टोला में पेयजल की व्यवस्था कराएं।

रूमा नायक, मालकुंडी

लखीपुरा में मुख्य सड़क के किनारे की बस्तियों में पेयजल की कोई व्यवस्था नहीं है। इसके कारण महिलाओं को परेशानी उठानी पड़ रही है। यहां के किसी भी घर में शौचालय का निर्माण नहीं कराया गया है। यहां सप्ताहिक हाट लगती है। परंतु हाठ परिसर में भी पेयजल की कोई व्यवस्था नहीं है।

प्रतिमा महतो, लखीपुरा

प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र में चिकित्सक नहीं होने से ग्रामीणों को सरकारी चिकित्सा सेवा का लाभ नहीं मिल रहा है। इसमें चिकित्सक का पदस्थापन जरूरी है। पंचायत की प्रमुख सड़क टिटिहा- मालकुंडी और जामडोल- सिंदूरगौरी सड़क जर्जर हो गई हैं। इन सड़कों की मरम्मत अति आवश्यक है।

मंजुला मुर्मू, मुखिया

संबंधित खबरें