DA Image
24 सितम्बर, 2020|10:57|IST

अगली स्टोरी

वर्ष 2009 में बलमुचू व श्यामल खां के चुनाव प्रचार में आए थे प्रणव मुखर्जी

default image

पूर्व राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी वर्ष 2009 में विधानसभा चुनाव में घाटशिला के कांग्रेस प्रत्याशी प्रदीप कुमार बलमुचू और बहरागोड़ा के प्रत्याशी श्यामल खां के समर्थन में क्रमश: चाकुलिया के केएनजे हाई स्कूल मैदान एवं घाटशिला के काशिदा एथलेटक्सि मैदान में चुनावी सभा को संबोधित करने आए थे। एसके पहले श्री मुखर्जी वर्ष 1980 में बहरागोड़ा, चाकुलिया एवं घाटशिला आए थे। घाटशिला के कांग्रेसी नेता तापस चटर्जी ने बताया कि प्रणब दा का पारीवारिक सम्बंध पूर्व मंत्री शिबू रंजन खां से था।

कांगरेस के पॉलिटिकल मैनेजर थे प्रणव दा. प्रदीप बलमुचू

पूर्व राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी के निधन पर शोक जताते हुए प्रदेश कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष डॉ. प्रदीप कुमार बलमुचू ने कहा कि प्रणव दा कांग्रेस के पॉलिटिकल मैनेजर थे। पार्टी किसी मुद्दे पर कोई ड्राफ्ट तैयार करती थी तो अंत में प्रणव मुखर्जी के पास भेजती थी। उनके ओके करने के उपरांत ही पत्र जारी किया जाता था। बलमुचू ने कहा कि प्रणव मुखर्जी सर्वसुलभ नेता थे। उन्होंने कहा कि उनके निधन से भारतीय राजनीति में एक बड़ा शून्य हो गया है जिसे भरना मुश्किल है। बलमुचू ने कहा कि श्री मुखर्जी कांग्रेस के ट्रबल शूटर थे। पार्टी के समक्ष चाहे जैसी भी चुनौती आई, नेताओं के विचारधारा में अंतर की स्थिति आई तो अंतत: समाधान प्रणव दा ही करते थे। बलमुचू न शोक व्यक्त करते हुए कहा कि ईश्वर उनके परिजन को दुख सहने की शक्ति दें।

श्यामल खां एवं रामदास ने भी दुख जताया

घाटशिला के विधायक रामदास सोरेन ने भी प्रणव मुखर्जी के निधन पर गहर शोक व्यक्त करते ईश्वर से उनकी आत्मा की शांति के लिए प्रार्थना किया। श्री सोरेन ने कहा कि भारतीय राजनीति के पुरोधा का चले जाना कापी दुखद है। बंग साहत्यि प्रेमी सह समाजसेवी श्यामल खां ने भी प्रणव मुखर्जी के निधन पर गहरा दुख व्यक्त किया है। उन्होंने कहा कि प्रणव दा से उनके परिवार का पारीविारिक संबंध रहा है। घर में आना.जाना रहा है। बता दें कि श्यामल खांच के पिता शिबू रंजन खां बहरागोड़ा विस क्षेत्र से विधायक रहे थें और बिहार सरकार में मंत्री भी रह चुके थे।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:In 2009 Pranab Mukherjee came in Balmchu and Shyamal Khan election campaign