DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

विस्थापित महिलाओं ने दुकान बनाना किया शुरू

नौकरी नहीं मिलने से नाराज विस्थापित संघ की महिला सदस्यों ने सोमवार को जादूगोड़ा यूसिल अस्पताल गेट के पास से यूसिल बाउंड्री तक निजी दुकान बनाने का काम शुरू कर दिया। महिला सदस्यों ने यूसिल पर वादाखिलाफी का आरोप लगाते हुये नाराजगी जतायी। महिलाओं ने कहा कि यूसिल प्रबंधन हमलोगों को बेवकूफ बना रही हैं।

हमलोगों को अब तक प्राइवेट में भी कोई काम नही दिया गया है। ये सारे जमीन हमारें है, हम यहां दुकान बनाकर रोजगार करेंगे। कहा कि जब तक हमें पर्मानेंट नौकरी नहीं दी जाती, तब तक हम यहां से नहीं हटेंगे। महिलाओं ने मिट्टी की जोड़ाई कर पिलर बनाना शुरू किया है। दुकान बनाने वाली महिलाओं में उषा उरांव, माधुरी कालिंदी, कुंती कालिंदी, सुलोचना सिंह शामिल हैं। इस मौके पर विस्थापित संघ के महासचिव कुशल सोरेन, संगठन सचिव जैकी,मानसिंह मार्डी आदी लोग मौजूद थे।

यूसिल प्रबंधन से तीन महीने पहले हुई थी बात : मौके पर पहुंचे संयुक्त विस्थापित संघ के अध्यक्ष बाघराय मार्डी ने कहा की यूसिल इस मुद्दे पर तीन महीने पहले ही बात कर चुकी थी और मिनट्स भी बना था। यूसिल ने अवैध तरीके से बढ़ाये दुकानदरों के तैंतिस लोगों की सूची बनाकर विस्थापित संघ को दिया था, जिस पर कार्रवाई होनी थी, लेकिन नहीं हुई। बैठक में तय किया गया था कि यूसिल एडजेस्ट कर 120 में से 20 लोगो को दुकान आवंटन करेगी और तत्काल 20 लोगों को प्राइवेट में काम देगी। उसके बाद माइंस खुलने के बाद पर्मानेंट किया जाएगा। लेकिन अब तक कुछ भी नही किया गया है।

ठोस कदम नहीं उठाने पर किया जाएगा आंदोलन : बाघराय मार्डी ने कहा कि मंगलवार को संयुक्त विस्थापित संघ मुसाबनी सीओ साधुचारण देवगम से भी मुलाकात की तो उन्होंने आस्वासन दिया की वे मंगलवार के साम 5 बजे तक यूसिल से दस्तावेज और बातें क्लीयर करने को कहा है। अगर यूसिल ठोस कदम नहीं उठाता है तो आंदोलन का रास्ता अपनाया जाएगा। कहा कि इसकी जानकारी सीओ को भी दे दी गई है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Displaced women start building shop