ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News झारखंड घाटशिलाभक्तों ने पीठ में कील चुभोकर दिखायी हठभक्ति

भक्तों ने पीठ में कील चुभोकर दिखायी हठभक्ति

धालभूमगढ़ प्रखंड के डोबा गांव में प्रतिवर्ष की भांति इस वर्ष भी साठ मौजा के ग्राम प्रधानों के द्वारा मिलकर गांव के लोगों के साथ भोक्ता उड़ान सह...

भक्तों ने पीठ में कील चुभोकर दिखायी हठभक्ति
हिन्दुस्तान टीम,घाटशिलाTue, 21 May 2024 07:15 PM
ऐप पर पढ़ें

धालभूमगढ़ प्रखंड के डोबा गांव में प्रतिवर्ष की भांति इस वर्ष भी साठ मौजा के ग्राम प्रधानों के द्वारा मिलकर गांव के लोगों के साथ भोक्ता उड़ान सह चरक पूजा का आयोजन किया गया। इस मौके पर भक्त अपने शरीर में लोहे की किल चुभोकर भक्ती का प्रर्दशन किया। इस दौरान दोनो बांहो में साबे घास का रस्सी चुभाकोर (रजनी फोड़ा कर) उसमें नाचते हुए बाबा भोलेनाथ के द्वार पर आये। इस क्रम में जमीन से लगभग 35 से 40 फुट की ऊंचाई पर एक लंबे लकड़ी के साथ अपने आप को बांधकर हवा में उड़ते देखे गये। इस क्रिया को शिव को अपनी हट धर्मिता से प्रसन्न करना माना जाता है। डोभा का मंदिर अति प्राचीन है और शिवलिंग के अंत का शेष आज तक नहीं मिल पाया है। भोक्ता उड़ान में लकी सिंह सरदार, सुदर्शन सरदार और कई भक्त शामिल थे। पंडित विष्णु शर्मा ने सभी भक्तों को पूजा अर्चना करवाई, उसके बाद सभी भक्त का उड़ान के लिए आ गए। इस पूजा में डोभा, जूनबनी ,भदुवा, सोनाखून, भरूडीह, चिरूगुड़ा और सोना खून के प्रधानों के द्वारा पूर्वजों के समय से चले आ रहे सहयोग से करते है। पूजा के संचालन के लिए अरुण सिंह, भोलानाथ सिंह, दीपक मंडल ,टकलू सिंह , रसो टुडू, दीपू मंडल, सचिन मंडल, देवरा सिंह, आदि लोगों की सक्रिय भूमिका रही, सोमवार की देररात इस मौके पर रात छौ नाच का आयोजन किया गया। मंगलवार की रात्री सांस्कृतिक कार्यक्रम का आयोजन किया जायेगा।

यह हिन्दुस्तान अखबार की ऑटेमेटेड न्यूज फीड है, इसे लाइव हिन्दुस्तान की टीम ने संपादित नहीं किया है।