Women come forward against dowry and drug abuse - दहेज प्रथा और नशाखोरी के खिलाफ महिलाएं आगे आएं DA Image
22 नवंबर, 2019|1:27|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

दहेज प्रथा और नशाखोरी के खिलाफ महिलाएं आगे आएं

दहेज प्रथा और नशाखोरी के खिलाफ महिलाएं आगे आएं

समाज में दस फीसदी आपराधिक वारदातों के पीछे का कारण नशा है। नशे पर अंकुश लगाने के लिए हर नागरिक को सहयोग देना चाहिए। आज सड़क दुर्घटनाओं में युवा पीढ़ी सबसे अधिक शिकार हो रहा है। महिला थाना प्रभारी ने कहा कि अभिभावकों को चाहिए कि वे अपने बच्चों को दोपहिया वाहन देने से पहले तमाम कानूनी औपचारिकताओं को पूरा करें। जनता के सहयोग के बिना पुलिस समाज में फैली कुरीतियों को दूर करने में सक्षम नहीं है। नशे के कारोबार पर अंकुश लगाने के लिए पुलिस ने जिला में विशेष अभियान चलाया है। महिला थाना प्रभारी ने कहा कि आपलोग को जो भी परेशानी हो, उसकी जानकारी जरूर दें। थाना आने से न डरें, बल्कि निडर होकर आएं। समस्याओं का निष्पादन किया जाएगा। मौके पर मुखिया रविरंजन राम ने कहा कि पंचायत में जो भी कुरीतियों हैं, उसका सभी मिलकर निपटारा किया जाएगा। उन्होंने कहा कि बच्चों के माता पिता की लापरवाही के कारण बच्चे बिगड़ते हैं। उसका पढ़ाई पर गलत असर पड़ता है। मौके उपमुखिया नसीम अंसारी, वार्ड सदस्य बोहल सिंह खरवार, सईद अंसारी, रेशम देवी, दोलतिया देवी, उर्मिला देवी, सोनी देवी, लीलवावती देवी, अर्चना देवी, सीमा देवी, सुनीता देवी, रीता देवी, शीला देवी, मैसूर बीबी, रिंकू देवी, अंजली देवी, धनेश्वरी देवी, रबीना बीबी, आसमा बीबी सहित बड़ी संख्या महिलाएं उपस्थित थी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Women come forward against dowry and drug abuse