DA Image
हिंदी न्यूज़ › झारखंड › गढ़वा › जानवरों का शिकार करने जंगल गए युवक खुद शिकार बन गए
गढ़वा

जानवरों का शिकार करने जंगल गए युवक खुद शिकार बन गए

हिन्दुस्तान टीम,गढ़वाPublished By: Newswrap
Wed, 01 Sep 2021 03:10 AM
जंगली जानवरों का शिकार करने गए तीन युवक खुद शिकार बन गए। जिलांतर्गत मेराल और डंडई थाना क्षेत्र के सीमावर्ती जंगल तिसरटेटूका के पकवा बांध पहाड़...
1 / 2जंगली जानवरों का शिकार करने गए तीन युवक खुद शिकार बन गए। जिलांतर्गत मेराल और डंडई थाना क्षेत्र के सीमावर्ती जंगल तिसरटेटूका के पकवा बांध पहाड़...
जंगली जानवरों का शिकार करने गए तीन युवक खुद शिकार बन गए। जिलांतर्गत मेराल और डंडई थाना क्षेत्र के सीमावर्ती जंगल तिसरटेटूका के पकवा बांध पहाड़...
2 / 2जंगली जानवरों का शिकार करने गए तीन युवक खुद शिकार बन गए। जिलांतर्गत मेराल और डंडई थाना क्षेत्र के सीमावर्ती जंगल तिसरटेटूका के पकवा बांध पहाड़...

मेराल/डंडई। प्रतिनिधि

जंगली जानवरों का शिकार करने गए तीन युवक खुद शिकार बन गए। गढ़वा जिलांतर्गत मेराल और डंडई थाना क्षेत्र के सीमावर्ती जंगल तिसरटेटूका के पकवा बांध पहाड़ क्षेत्र में यह सनसनीखेज मामला प्रकाश में आया है। साहिल नामक जानवर का शिकार करने गुफा के अंदर गए तीन युवकों में एक युवक का शव बरामद किया गया है। वहीं, बाकी दो अन्य युवकों के बारे में समाचार लिखे जाने तक पता नहीं चल सका। पुलिस स्थानीय ग्रामीणों की मदद से लापता युवकों की तलाश में लगी है।

घटना के संबंध में ग्रामीणों ने बताया कि डंडई थाना क्षेत्र के चकरी गांव से आदिम जनजाति परिवार के नौ युवक जंगल में शिकार करने अपने-अपने घर से निकले। युवक अक्सर जंगली जानवरों का शिकार करने निकलते थे। शिकार की तलाश में वे निकटवर्ती मेराल थाना क्षेत्र के तिसरटेटूका के पकवा बांध पहाड़ क्षेत्र में चले गए। वहां एक गुफा में साहिल होने की भनक मिली। उसके बाद सभी युवक गुफा के पास बैठकर साहिल के बाहर निकलने का इंतजार करने लगे। काफी समय तक जब शिकार हाथ नहीं लगा तो छह युवकों ने घर लौटने का निर्णय लिया। वहीं, बाकी तीन युवक ने गुफा के अंदर घुसकर साहिल का शिकार करने का मन बनाया। पहले दो युवक गुफा के अंदर चले गए। पीछे से तीसरा युवक जैसे ही गुफा के दरवाजे पर पहुंचा उसका दम घुटने लगा। वह जबतक निकलने की कोशिश करता तबतक बेहोश हो चुका था। उसके बाद सबकी मौके पर ही मौत हो गई। पास मवेशी चरा रहे चरवाहे और ग्रामीणों को घटना की भनक मिलने के बाद शोर मचाया। शोर सुनकर अन्य लोग भी मौके पर पहुंचे।

उसके बाद पुलिस को उसकी जानकारी दी। सूचना पाकर मेराल और डंडई पुलिस घटनास्थल पर पहुंची। वहां पहुंचने के बाद पुलिस ने ग्रामीणों के सहयोग से राहत और बचाव कार्य शुरू किया। उसी क्रम में एक युवक उपेंद्र कोरवा का शव बरामद कर लिया गया। बताया जाता है कि गुफे की गहराई 20 फीट से भी अधिक है। समाचार लिखे जाने तक मेराल थाना प्रभारी शिवलाल कुमार गुप्ता, एसआई अजीत कुमार और डंडई पुलिस मौके पर ही मौजूद थी। जेसीबी की मदद से लापता युवकों की तलाश की जा रही थी। उधर सूचना पाकर बड़ी संख्या में स्थानीय लोग भी पहुंचकर पुलिस की मदद करने में लगे हैं। गुफा की खुदाई के लिए दो-दो जेसीबी मशीन लगाए गए हैं। बताया जाता है कि गुफा में फंसे युवक का नाम श्याम बिहारी कोरवा और उमेश कोरवा है। लोगों ने बताया कि पहाड़ में पत्थर होने के कारण जेसीबी को भी खोदने में परेशानी हो रही है। लोगों के कहने पर पुलिस ने एनडीआरएफ से भी मदद मांगी है।

संबंधित खबरें