DA Image
16 फरवरी, 2020|6:26|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

शौचालय बना नहीं और गांव में लग गया ओडीएफ का बोर्ड

शौचालय बना नहीं और गांव में लग गया ओडीएफ का बोर्ड

बगैर शौचालय के गांव को ओडीएफ घोषित कर दिया गया। अब गांव के लोग ठगा महसूस कर अब विरोध कर रहे हैं। मामला प्रखंड के घटहुआ कला पंचायत के लमारी खुर्द गांव का है। ग्रामीणों ने आरोप लगाया कि अधिकारियों की मनमानी का खामियाजा गांव के लोग भुगत रहे हैं। ग्रामीणों का आरोप है कि गांव में एक भी शौचालय का निर्माण नहीं हुआ। उल्टे प्रशासन ने उनके गांव में ओडीएफ का बोर्ड लगवा दिया है। बोर्ड में बताया गया है कि सालभर पहले ही उक्त गांव खुले में शौच से मुक्त हो चुका है। ग्रामीण बताते हैं कि उनके गांव में खुले में शौच मुक्त का बोर्ड मुंह चिढ़ा रहा है। साथ ही योजना में भ्रष्टाचार की भी पोल खोल रहा है। लोगों ने बताया कि गांव के लोगों को आज भी शौच के लिए बाहर जाना पड़ रहा है। वार्ड संख्या तीन के वार्ड सदस्य प्रतिनिधि मनोज कुमार ने बताया कि उनके वार्ड में एक भी शौचालय नहीं बना है। उन्होंने बताया कि यहां की महिलाओं को खुले में शौच जाना मजबूरी है। साथ ही उपस्थित सभी ग्रामीणों ने एक स्वर में हाथ उठाकर अधिकारियों से जांच की मांग की। कुछ इसी तरह की स्थिति प्रखंड के दूसरे गांवों की भी है। वहां पर भी स्वच्छ भारत मिशन योजना के तहत शौचालय बने ही नहीं। अगर एकाध बने भी हैं तो आधे अधूरे। उसके बाद भी विभाग ने उक्त गांव में ओडीएफ का बोर्ड लगा कर उस गांव को ओडीएफ घोषित कर दी गयी है। गोसांग, गरदाहा, जतरो, कांडी सहित कई अन्य गांवों में भी ओडीएफ का बोर्ड लगाया गया है। जमीनी हकीकत यह है कि ग्रामीण आज भी शौच के लिए बाहर जा रहे हैं। बोर्ड लगाकर सरकार झूठ की वाहवाही बटोर रही है। मौके पर गोपाल सिंह, रामाशीष साह, उपेंद्र बैठा, रामराज राम, श्रवण राम, रामसागर राम, कृष्णमुरारी सिंह, बबलू बैठा, मनीष सिंह, रामनाथ साह, कमलेश सिंह, मुखलाल राम, शम्भूनाथ साह, अजय सिंह, अनिरुद्ध बैठा, अमीरचन बैठा सहित काफी संख्या में लोग उपस्थित थे।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:No toilets built and ODF board installed in the village