DA Image
14 अगस्त, 2020|7:59|IST

अगली स्टोरी

बंद पड़ा है आठ महीने से जलमीनार, पानी संकट

default image

अनुमंडल के दूधवल पंचायत के आमटांड़ गांव में लगाया गया जलमीनार का लाभ ग्रामीणों को नहीं मिल रहा है। 3.84 लाख रुपए से बनाया गया जलमीनार करीब आठ महीने से बंद पड़ा है। जलमीनार के बंद होने से ग्रामीणों में आक्रोश है। ग्रामीणों का आरोप है कि जलमीनार तो लगा पर गांव के लोग पीने के पानी के लिए परेशान हैं। ग्रामीण पंचायत के मुखिया व जलमीनार बनाने वाले ठीकेदार को फोन कर बार-बार मरम्मत कराने को कह रहे हैं। मुखिया व ठीकेदार उनकी बात नहीं सुन रहे। गांव के इंद्रदेव यादव, जितेश्वर यादव ने बताया कि मुखिया और ठीकेदार ने कहा था कि लाभुक समिति के खाते में राशि आएगी। उसी राशि से मरम्मत करा सकते हैं। जलमीनार बने आठ माह बीत गए पर लाभुक समिति के खाते में राशि नहीं आई। जलमीनार में लगा मशीन खराब हो गया है। गांव के संजय यादव, ललिता देवी बताती है कि जलमीनार से एक हफ्ते ही लोगों को पानी मिला। उसके बाद यह खराब हो गया। कौशल्या देवी, सुमंती देवी बताती है कि पीने के पानी की समस्या हो गई है। चापकल था तो उसी से काम चलता था। अब तो मशीन लगने से चापाकल से भी पानी नहीं ले सकते। उसी में मशीन लगा दिया गया। पानी के लिए एक किलोमीटर दूरी तय करना पड़ रहा है। उसी तरह पंचायत के हेताड़कला और बेलवादामर गांव का जलमीनार तो एक साल से बंद पड़ा है। उसकी मरम्मत नहीं कराई जा रही है।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Jalaminar has been closed for eight months water crisis