अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

दिसंबर तक हर घर में बिजली पहुंचाने का दिया निर्देश

दिसंबर तक हर घर में बिजली पहुंचाने का दिया निर्देश

बिजली विभाग लक्ष्य के अनुसार दिसंबर तक सभी घरों में बिजली पहुंचाने का कार्य करेगी। कार्य में तेजी लाने के लिए अधिकारियों के साथ समीक्षा की जा रही है। उक्त बातें बिजली बोर्ड के एमडी राहुल पुरवार ने बुधवार को स्थानीय सर्किट हाऊस में विभाग के अधिकारियों के समीक्षा बैठक में कही। उन्होंने कहा कि जिले में चार एजेंसियों को विद्युतीकरण करने की जिम्मेवारी दी गई है। अधिकारियों और एजेंसी को समय पर कार्य पूरा करने का निर्देश दिया गया है। जिले के 862 गांवों में बिजली पहुंचा दी गई है। उक्त गांव के 50 प्रतिशत घरों में भी बिजली पहुंच चुका है। शेष बचे पचास प्रतिशत घरों में बिजली पहुंचाने का कार्य जारी है। उन्होंने बताया कि ग्राम स्वराज अभियान के दौरान चयनित जिले के 437 गांवों में से तीन सौ गांव को कवर किया जा चुका है। शेष बचे 137 गांव में कार्य चल रहा है। उन्होंने कहा कि गढ़वा जिला अभी तक राज्य के ट्रांसमिशन नेटर्वक से नहीं जुड़ पाया है। गढ़वा को रिहंद और सोननगर से बिजली की आपूर्ति की जाती है। उसका कंट्रोल झारखंड के हाथ में नहीं है। मेदनीनगर से गढ़वा को ट्रांसमिशन लाइन में जोड़ने का कार्य शुरू किया गया था, लेकिन बीच में नदी होने के कारण पायलिंग का कार्य पूरा नहीं हो पाया है। दिसंबर के बाद नदी में पानी कम होने पर पायलिंग का कार्य पूरा कर जिला को ट्रांसमिशन नेटवर्क से जोड़ दिया जाएगा। इस कार्य को अप्रैल माह तक हर हाल में पूरा करा लिया जाएगा। उन्होंने कहा कि बिजली समस्या के निदान के लिए भागोडीह में बने रहे पावर ग्रिड भी अगले वर्ष दिसंबर माह तक बनकर तैयार हो जाएगा। उन्होंने कहा कि भागोडीह में पावर ग्रिड और ट्रांसमिशन नेटवर्क से जुड़ने के बाद ही बिजली की समस्या समाप्त होगी। उन्होंने कहा कि दोनों कार्य होने पर गढ़वा में देश के किसी भी कोने से बिजली लाया जा सकता है।

क्वालिटी पावर और कवरेज पहुंचाने के लिए किया जा रहा है काम : एमडी

गढ़वा। बैठक के बाद पत्रकारों को जानकारी देते एमडी ने बताया कि विभाग की ओर से लोगों को क्वालिटी पावर और कवरेज देने के लिए आवश्यक कार्रवाई की जा रही है। जिले में नौ सब स्टेशन का निर्माण कराया जा रहा है। वहीं शहरी क्षेत्र में दो नए सब स्टेशन बनाया जा रहा है। उन्होंने कहा कि विभाग में कर्मियों की कमी है, जिसे दूर किया जा रहा है। 10 पुराने सब स्टेशन में जो कमियां हैं, उसे दूर करने का काम किया जा रहा है। इंशुलेटर सहित जर्जर होने वाले सभी समानों को बदलने का काम हो रहा है। उन्होंने कहा कि पहले जिला को 30 से 40 मेगावाट में बिजली काफी होती थी। वह बढ़कर अब रेलवे समेत एक सौ मेगावाट हो चुका है। उन्होंने कहा कि विभाग का इंटर्नल सिस्टम को मजूबत कर लोगों को बेहतर बिजली देने की दिशा में काम किया जा रहा है। एमडी ने कहा कि शहरी या ग्रामीण क्षेत्रों में अगर किसी भी कारण से बिजली काटनी है तो उसकी सूचना समाचार पत्रों के माध्यम से विभाग के अधिकारी लोगों को पहले ही दें। शहरी क्षेत्र में किसी अगर किसी कारण से ब्रेक डाऊन होती है तो विभाग के अधिकारी उसे त्वरित ठीक कर बिजली आपूर्ति चालू करें। बैठक में अधीक्षण अभियंता धनंजय कुमार, कार्यपालक अभियंता राजेश लिंडा, सहायक अभियंता रामशीष चौधरी सहित अन्य अधिकारी मौजूद थे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Instructions for transmitting electricity to every household by December