ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News झारखंड गढ़वाआधा दर्जन से अधिक गांवों में ओलावृष्टि से फसलों को भारी नुकसान

आधा दर्जन से अधिक गांवों में ओलावृष्टि से फसलों को भारी नुकसान

प्रखंड अंतर्गत गाड़ाखुर्द व बलियारी पंचायत में मंगलवार देर रात हुई ओलावृष्टि फसलों को भारी नुकसान हुआ है। आधा दर्जन से अधिक गांवों के खेतों में लगी...

आधा दर्जन से अधिक गांवों में ओलावृष्टि से फसलों को भारी नुकसान
हिन्दुस्तान टीम,गढ़वाThu, 15 Feb 2024 02:15 AM
ऐप पर पढ़ें

कांडी, प्रतिनिधि। प्रखंड अंतर्गत गाड़ाखुर्द व बलियारी पंचायत में मंगलवार देर रात हुई ओलावृष्टि फसलों को भारी नुकसान हुआ है। आधा दर्जन से अधिक गांवों के खेतों में लगी खड़ी फसल सहित कई खपरैल घर ओलावृष्टि से तहस नहस हो गए हैं। गाड़ाखुर्द पंचायत के सुंडीपुर, बनकट, नारायणपुर, कसनप के अलावा बलियारी पंचायत के सोनपुरा, बरवाडीह, ढेलकाडीह व बलियारी गांव में ओलावृष्टि का असर रहा।
स्थानीय ग्रामीणों ने बताया कि मंगलवार 11.10 बजे से दस मिनट तक ओलावृष्टि हुआ । ओलावृष्टि से किसानों के खेतों में लगी आलू, मसूर, गेंहू, ईख, चना, सरसों की खड़ी फसल को काफी नुकसान हुआ है। उसके साथ ही कई लोगों का खपरैल घर को क्षति पहुंची है। गड़ाखुर्द पंचायत के किसान देवेंद्र शर्मा, सरयू सिंह, गोपाल चौधरी, मुकेश सिंह, संतोष सिंह, ब्रजेश मेहता, सत्येंद्र शर्मा, पूरन मेहता, राम प्यारे चौधरी, कृष्णा साव, सुनूर सिंह, बबलू सिंह, पंडित सिंह, उदय सिंह, जय मंगल चौधरी, जय प्रकाश मेहता, पुरुषोत्तम मेहता, विजय सिंह व वशिष्ठ सिंह सहित अन्य किसानों के फसल ओलावृष्टि में बर्बाद हो गए। वहीं सुंडीपुर व बनकट गांव के नरेश राम, राही पासवान, देवानंद पासवान, बबलू पासवान, मुकेश पासवान, राज कुमार चौधरी, जनेश चौधरी, अखिलेश चौधरी, पंकज मेहता सहित कई अन्य ग्रामीणों के खपरैल घर को काफी नुकसान पहुंचा है। उसी क्षेत्र में बुधवार दोपहर करीब दो बजे के बाद भी दुबारा बारिश के साथ ओलावृष्टि हुई। गाड़ाखुर्द पंचायत के मुखिया प्रतिनिधि नीरज सिंह ने पंचायत में ओलावृष्टि से किसानों के फसलों व घरों को हुए नुकसान की जांच कराकर उचित मुआवजा दिलाने की मांग सरकार से की है।

::बॉक्स::पांच गाय और एक बछड़ा की भी मौत::

मंगलवार रात बारिश और ओलावृष्टि के साथ हुई वज्रपात की घटना में गाड़ाखुर्द पंचायत के बनकट गांव में सीताराम चौधरी की पांच गाय व एक बछड़ा की मौत हो गई। भुक्तभोगी सीताराम अत्यंत गरीब और भूमिहीन है। वह अपने मवेशियों को सोन नदी तट पर झोपड़ी लगा मवेशियों को रखता था। रात में बेमौसम बारिश के साथ ओलावृष्टि व वज्रपात की घटना भी हुई। उसी वज्रपात में सीताराम के मवेशी आ गए। मुखिया प्रतिनिधि नीरज ने भुक्तभोगी को सरकारी प्रावधान के अनुसार मुआवजा दिलवाने का आश्वासन दिया।

यह हिन्दुस्तान अखबार की ऑटेमेटेड न्यूज फीड है, इसे लाइव हिन्दुस्तान की टीम ने संपादित नहीं किया है।
हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें