ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News झारखंड गढ़वासभी अधूरी योजनाओं को ससमय पूरा करें: सांसद

सभी अधूरी योजनाओं को ससमय पूरा करें: सांसद

सांसद ने अधिकारियों के साथ की योजनाओं की समीक्षा सांसद विष्णु दयाल राम की अध्यक्षता में समाहरणालय स्थित सभागार में केंद्र और राज्य सरकार की ओर से...

सभी अधूरी योजनाओं को ससमय पूरा करें: सांसद
हिन्दुस्तान टीम,गढ़वाSun, 23 Jun 2024 01:15 AM
ऐप पर पढ़ें

गढ़वा। सांसद विष्णु दयाल राम की अध्यक्षता में समाहरणालय स्थित सभागार में केंद्र और राज्य सरकार की ओर से संचालित योजनाओं की समीक्षात्मक बैठक शनिवार को हुई। बैठक में मुख्य रूप से सोन-कनहर पाइप लाइन सिंचाई योजना, भारतमाला परियोजना के अंतर्गत राष्ट्रीय राजमार्ग संख्या 39 (75), 343 का फोरलेन सड़क निर्माण, बाइपास व अन्नराज घाटी में ब्लैक स्पॉट निर्माण कार्य योजना, कांडी प्रखंड के श्रीनगर-पंडुका के बीच सोन नदी पर ब्रिज का निर्माण कार्य सहित अन्य योजना शामिल है। मौके पर सांसद ने अधूरी योजनाओं को ससमय पूरा करने का निर्देश दिया।
सांसद ने सोन-कनहर पाइपलाइन सिंचाई योजना के कार्य अब तक पूर्ण नहीं होने का कारण पूछा। उन्होंने कहा कि यह योजना 2019 में स्वीकृत हो चुकी थी। 2022 तक पूर्ण करने का समय निर्धारित था। मौके पर लघु सिंचाई प्रमंडल के कार्यपालक अभियंता ने बताया कि इस योजना से संबंधित 95 प्रतिशत क्षेत्र में कार्य पूर्ण हो चुका है। शेष अपूर्ण कार्यों के लिए फॉरेस्ट क्लीयरेंस सर्टिफिकेट नहीं मिला है। उन्होंने बताया कि पीएससी की बैठक में आवश्यक निर्देश मिलने के फलस्वरुप फॉरेस्ट क्लीयरेंस के लिए कार्रवाई की जा रही है। उसे एक माह के अंदर पूर्ण कर लिया जाएगा। सोन-कनहर पाइप लाइन सिंचाई योजना का अधिकांश भाग वन क्षेत्र होने और भवनाथपुर सेल माइंस का क्षेत्र होने के चलते भी एनओसी सर्टिफिकेट के लिए कार्रवाई की गई है। एनओसी मिलते ही जल्द कार्य शुरू करते हुए योजना पूर्ण कर ली जाएगी। सांसद ने इस महत्वपूर्ण योजना को जल्द से जल्द पूर्ण करने को लेकर निर्देशित किया ताकि किसानों को सिंचाई के लिए पानी पाइप लाइन के माध्यम से पहुंचा जा सके। भारतमाला प्रोजेक्ट के अंतर्गत राष्ट्रीय राजमार्ग संख्या 39 (75) और 343 का फोरलेन सड़क निर्माण की भी समीक्षा की गई। साथ ही अन्नराज घाटी में ब्लैक स्पॉट निर्माण कार्य योजना की समीक्षा की गई। समीक्षा के दौरान गढ़वा बाईपास सड़क निर्माण में आ रही समस्या की चर्चा की गई। उसे लेकर एनएचएआई के प्रतिनिधि ने बताया कब्रिस्तान के ऊपर बनाये जा रहे ब्रिज की हाईट को लेकर कुछ समस्याएं हैं। उसके नए डिजाइन के लिए प्रस्ताव एनएचएआई को भेजा गया है। प्रस्ताव स्वीकृत होते ही कार्य प्रारंभ कर दिया जाएगा। एनएच- 75 सेक्सन- 5 सड़क के फोरलेन/चौड़ीकरण को लेकर मौके पर उपस्थित जिला भू-अर्जन पदाधिकारी से रैयतों के अधिग्रहित भूमि के विरूद्ध मुआवजा भुगतान के बारे में पूछा गया। जिला भू-अर्जन पदाधिकारी ने बताया कि योजना के तहत रैयतों के मुआवजा भुगतान के लिए 450 करोड़ रुपए के स्थान पर 422 करोड़ रुपए प्राप्त हुए हैं। उसमें 302 करोड़ रुपए का भुगतान कर दिया गया है जबकि शेष 120 करोड़ रुपए के भुगतान की प्रक्रिया जारी है। अगले दो से तीन माह के अंदर भुगतान संबंधी सारी प्रक्रिया पूर्ण कर ली जाएगी। कांडी प्रखंड के श्रीनगर-पंडुका के बीच सोन नदी पर ब्रिज के निर्माण कार्य को लेकर भी समीक्षा की गई। इस योजना को ससमय पूर्ण करने के लिए निर्देश दिए गया। सांसद ने गढ़वा जिला अंतर्गत केंद्र और राज्य सरकार के द्वारा संचालित सभी महत्वपूर्ण योजनाओं को साथ समय पूर्ण करने का निर्देश दिया।। बैठक में उपायुक्त शेखर जमुआर, उप विकास आयुक्त पशुपतिनाथ मिश्रा, अपर समाहर्ता मतियस विजय टोप्पो के अतिरिक्त जिला भू-अर्जन पदाधिकारी, सदर एसडीओ विजय कुमार सहित अन्य उपस्थित थे।

यह हिन्दुस्तान अखबार की ऑटेमेटेड न्यूज फीड है, इसे लाइव हिन्दुस्तान की टीम ने संपादित नहीं किया है।