ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News झारखंड गढ़वाजलजमाव ने नाराज ग्रामीणों ने सड़क पर निकलकर किया विरोध प्रदर्शन

जलजमाव ने नाराज ग्रामीणों ने सड़क पर निकलकर किया विरोध प्रदर्शन

फोटो कांडी एक-सड़क पर हुए स्थायी जलजमाव में धान की रोपनी कर विरोध दर्ज कराते स्थानीय...

जलजमाव ने नाराज ग्रामीणों ने सड़क पर निकलकर किया विरोध प्रदर्शन
हिन्दुस्तान टीम,गढ़वाSun, 23 Jun 2024 01:15 AM
ऐप पर पढ़ें

कांडी, प्रतिनिधि। प्रखंड मुख्यालय में बाजार स्थित कर्पूरी चौक से हरिजन मुहल्ला तक हुए स्थायी जलजमाव के विरोध में शनिवार को स्थानीय ग्रामीणों ने सड़क पर धान की रोपनी कर प्रतीकात्मक विरोध दर्ज कराया। जलजमाव के कारण उक्त बाजार से हो कर गुजरने वाले राहगीरों को अत्यंत नारकीय स्थिति का सामना करना पड़ रहा है। नाली का पानी का उचित निकास नहीं होने के कारण नाली का सारा गंदा पानी बाजार से लेकर हरिजन मुहल्ला तक जमा हुआ है।
मालूम हो कि कांडी बाजार स्थित कर्पूरी चौक से लेकर भवनाथपुर स्थित कर्पूरी चौक तक की सड़क व नाली निर्माण का कार्य पांच वर्षों बाद भी पूर्ण नहीं हुआ। स्थानीय ग्रामीणों ने वरीय पदाधिकारी व संवेदक की घोर लापरवाही का आरोप लगाया है। उसे लेकर स्थानीय ग्रामीण आक्रोश में है। यहां नाली का गंदा पानी हमेशा सड़क पर बहता ही रहता है। वहीं हल्की बारिश होने के बाद तो और भी नारकीय स्थिति हो जाती है। सड़क के किनारे बने नाली के पानी का निकास कहीं नही होता। उक्त सड़क पर केवल जलजमाव ही नहीं, बल्कि उक्त सड़क कीचड़ से भी लथपथ हुई रहती है। नाली से आने वाला पानी बिल्कुल दुर्गंधित होता है। वर्षों से उक्त सड़क की यही स्थिति बनी हुई है। कई बार विरोध जताने और पदाधिकारियों के शिकायत के बाद भी समस्या का समाधान नहीं हुआ। उसी आक्रोश में पंचायत के पूर्व मुखिया सह भाजपा के वरिष्ठ नेता विनोद प्रसाद के नेतृत्व में दर्जनों ग्रामीणों ने सड़क पर धान की प्रतिकात्मक रोपाई कर विरोध प्रदर्शन किया। मौके पर विनोद ने कहा कि केंद्र सरकार द्वारा वर्षों पूर्व कांडी बाजार स्थित कर्पूरी चौक से भवनाथपुर स्थित कर्पूरी चौक तक सड़क की स्वीकृति दी गई। उसके बाद भी सड़क का निर्माण पूरा नहीं हो सका। पहले से ही प्रभु पासवान के घर से कर्पूरी चौक तक नाली बना हुआ है लेकिन ली में पानी न जा कर सड़क पर ही बह रहा है। उन्होंने कहा कि समस्या का समाधान नहीं हुआ तो जिला मुख्यालय पहुंच धरना प्रदर्शन के लिए बाध्य होंगे। मामले में प्रखंड विकास पदाधिकारी राकेश सहाय ने बताया कि स्थानीय ग्रामीण अपनी शिकायत लिखित रूप से दें। शिकायत मिलने के बाद उसपर कार्रवाई होगी।

यह हिन्दुस्तान अखबार की ऑटेमेटेड न्यूज फीड है, इसे लाइव हिन्दुस्तान की टीम ने संपादित नहीं किया है।