DA Image
हिंदी न्यूज़ › झारखंड › दुमका › प्रदूषण से प्रकृति और पर्यावरण को बचाना है
दुमका

प्रदूषण से प्रकृति और पर्यावरण को बचाना है

हिन्दुस्तान टीम,दुमकाPublished By: Newswrap
Mon, 28 Jun 2021 04:20 AM
प्रदूषण से प्रकृति और पर्यावरण को बचाना है

प्रदूषण से प्रकृति और पर्यावरण को बचाएं

दुमका। एएन कॉलेज के दर्शनशास्त्र विभाग एवं आईक्यूएसी के द्वारा एक दिवसीय राष्ट्रीय वेबिनार का आयोजन आयोजित किया गया।

वेबिनार में मुख्य संरक्षक एवं महाविद्यालय के प्राचार्य डॉ संजय कुमार सिंह ने उद्घाटन एवं स्वागत भाषण दिए। वेबिनार का विषय था 'पर्यावरण दर्शन-एक आत्म विस्तीर्ण। इस वेबिनार के आयोजक सचिव सह एएन कॉलेज के दर्शनशास्त्र विभाग की प्राध्यापिका डॉ चंपकलता ने बताया कि समय के साथ शहरीकरण और औद्योगिकीकरण के कारण मनुष्य का प्रकृति से संपर्क और तथाकथित विकास की अंधी दौड़ में उसकी यह अनुभूति समाप्त हो गई है कि प्रकृति भी एक जीवन शक्ति है । इस वेबिनार के मुख्य अतिथि सह मुख्य वक्ता तिलका मांझी विश्वविद्यालय भागलपुर के दर्शनशास्त्र विभाग के प्राध्यापक डॉ पूर्णन्दू शेखर ने बताया की इकोसिस्टम एक परिस्थिति के दर्शन है। उन्होंने परिस्थिति को प्रकृति और अन्य लोगों के बारे में विश्वासों के एक समूह के रूप में परिभाषित किया है। परिस्थिति की पर्यावरण के लिए एक दार्शनिक दृष्टिकोण है जो व्यक्तिगत विश्वासों पर जोड़ देता है। इस वेबिनार के विशिष्ट अतिथि एवं वक्ता सिदो कान्हु मुर्मू विश्वविद्यालय के परीक्षा नियंत्रक डॉ अनिल कुमार वर्मा ने भी पर्यावरण पर प्रकाश डालते हुए कहा की इस प्रदुषण से प्रकृति और पर्यावरण को बचाना है साथ हो विषय पर विस्तार पूर्वक प्रकाश डाला। इस वेबिनार के संयोजक डॉ रविउल इस्लाम ने भी दोनो वक्ता को सराहा और पर्यावरण को बचाने की अपील की। इस वेबिनार में भाग लेने वालो में मुख्य रूप से डॉ मैरी मारग्रेट टुडू, डॉ इंद्राणी चक्रवर्ती, डॉ रूपम कुमारी, डॉ संजु कुमारी, डॉ कल्याण कुमार, डॉ शिवशंकर सिंह साथ ही इस वेबिनार में अनेक राज्यों एवं विश्वविद्यालयों के अनेक कॉलेजों से प्रतिभागी भाग लिए।

संबंधित खबरें