DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

भादो मेला के 9वें दिन 50 हजार कांवरियों ने जलाभिषेक किया

भादो मेला के 9वें दिन 50 हजार कांवरियों ने जलाभिषेक किया

1 / 2बासुकीनाथ मंदिर को विभिन्न स्रोतों से 1.35 लाख रुपए की हुई आमदनी बासुकीनाथ मंदिर को विभिन्न स्रोतों से 1.35 लाख रुपए की हुई...

भादो मेला के 9वें दिन 50 हजार कांवरियों ने जलाभिषेक किया

2 / 2बासुकीनाथ मंदिर को विभिन्न स्रोतों से 1.35 लाख रुपए की हुई आमदनी बासुकीनाथ मंदिर को विभिन्न स्रोतों से 1.35 लाख रुपए की हुई...

PreviousNext

फौजदारी बाबा बासुकीनाथ मंदिर में कांवरिया श्रद्धालुओं का आना निरंतर जारी है। भादो मेला के 9 वें दिन शनिवार को भी बाबा बासुकीनाथ धाम की नगरी कांवरिया भक्तों से गुलजार रही। भादो मेला के इन दिनों फौजदारी बाबा की नगरी कांवरिया भक्तों से पूरी तरह गेरुआमय नजर आ रही है। चतुर्दिक कांवरिया श्रद्धालुओं से पटी बाबा की नगरी में बोल बम के महामंत्रोच्चार से भक्ति की समा बंधी हुई है। भादो मेला के 9 वें दिन बाबा बासुकीनाथ के फौजदारी नगरी में कुल 50 हजार 402 कांवरियों ने भगवान नागेश के ज्योतिर्मय शिवलिंग पर पवित्र गंगाजल से जलाभिषेक संपन्न किया। जिसमें कांवरिया क्यू रूट लाइन से कतारबद्ध होकर सामान्य तरीके से बाबा मंदिर के गर्भगृह में जाकर स्पर्श पूजा करने वाले कांवरियों की संख्या 50150 रही,जबकि जलार्पण कांउटर से 252 श्रद्धालुओं ने जलार्पण किया। वही शीघ्र दर्शनम की सुविधा का लाभ उठाते हुए 300 का कूपन कटा कर सुलभ तरीके से 451 श्रद्धालुओं ने फौजदारी बाबा पर जलार्पण कर बाबा का शीघ्र दर्शन किया।

बाबा मंदिर को विभिन्न स्रोतों से 1.35 लाख रुपए की हुई आमदनी

भादो मेला के 9 वें दिन शनिवार को श्रद्धालुओं के चढ़ावे तथा विभिन्न स्रोतों से बाबा बासुकीनाथ मंदिर को कुल 1,35 212 रुपए की नगद आय प्राप्त हुई है। इसमें श्रद्धालुओं द्वारा चढ़ावे में मंदिर के गोलक से कुल 42542 रुपए प्राप्त हुई। अन्य स्रोतों से 2470 रुपए की नगद आमदनी हुई है, जबकि शीघ्र दर्शन के कूपन से 90 200 रुपए की आमदनी बाबा बासुकीनाथ मंदिर को प्राप्त हुई है। वही बासुकीनाथ मंदिर में श्रद्धालुओं के चढ़ावे से चांदी का द्रव्य कुल 30 ग्राम भी प्राप्त हुआ है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:On the 9th day of Bhado Mela 50 thousand Kanwaris performed Jalabhishek