DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

मेडिकल बोर्ड से रेफर कैदी को नहीं भेजा धनबाद

दुमका केंद्रीय कारा में बंद सजायाफ्ता कैदी होरिल मंडल ने कारा महानिरीक्षक को आवेदन पत्र भेज कर कारा प्रशासन पर कई गंभीर आरोप लगाए हैं। मेडिकल बोर्ड ने बीमार कैदी को 22 नवंबर 2017 को ही बेहतर इलाज के लिए पीएमसीएच धनबाद रेफर कर दिया था पर आज तक उसे धनबाद नहीं भेजा गया।

मंडल ने कुछ दबंग कैदियों पर जान से मारने की धमकी देने का आरोप लगाते हुए कहा है कि मुझे मानसिक रोगी घोषित कर मनोरोग अस्पताल भिजवाने की धमकी भी दी गई। जेल आईजी को भेजे पत्र की प्रति मानवाधिकार आयोग को भी भेज कर कैदी ने न्याय की गुहार लगाई है।

ठाकुरगंगटी (जिला गोड्डा) के होरिल मंडल को सश्रम कारावास की सजा मिली है। 3 दिसंबर 2017 तक उसे चापकल कमौनी का काम लिया जा रहा था जबकि वह शरीर से कमजोर और बीमार है। बंदी आवेदन में होरिल मंडल ने दुमका केंद्रीय जेल में अवैध कैंटीन चलने और कारा गोदाम में चूल्हा जलवा कर वीआईपी खाना बनवाने का गंभीर आरोप लगाया है। कमौनी की हाजिरी भी काट लने का आरोप लगाते हुए लिखा है कि उसे 30 हजार का नुकसान हो चुका है। 29 मार्च को रांची की टीम के निरीक्षण के दौरान भी होरिल ने अपनी शिकायत रखी थी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Do not send Referral prisoner from medical board