DA Image
हिंदी न्यूज़ › झारखंड › दुमका › भाकपा माओवादी संगठन का सक्रिय नक्सली गंगा राय ने राइफल के साथ किया सरेंडर
दुमका

भाकपा माओवादी संगठन का सक्रिय नक्सली गंगा राय ने राइफल के साथ किया सरेंडर

हिन्दुस्तान टीम,दुमकाPublished By: Newswrap
Thu, 05 Aug 2021 04:10 AM
भाकपा माओवादी संगठन का सक्रिय नक्सली गंगा राय ने राइफल के साथ किया सरेंडर

दुमका। प्रतिनिधि

भाकपा माओवादी संगठन के सक्रिय नक्सली गंगा प्रसाद राय ने हथियार के साथ सरेंडर कर दिया। झारखंड सरकार के प्रत्यार्पण एवं पुनर्वास नीति से प्रभावित होकर गंगा राय ने बुधवार को नई दिशा कार्यक्रम में मौजूद संताल परगना के डीआईजी सुदर्शन प्रसाद मंडल,दुमका के उपायुक्त रविशंकर शुक्ला,सशस्त्र सीमा बल(एसएसबी) गया के डीआईजी टी सिरिंग और एसपी अम्बर लकड़ा के समक्ष अपनी देशी राइफल झारखंड पुलिस और एसएसबी को सौंपते हुए आत्मसमर्पण किया। सरकार के प्रत्यार्पण एवं पुनर्वास योजना के तहत सरकार से मिलने वाले अनुदान स्वरूप तत्काल एक लाख रुपए का चेक गंगा राय को दिया गया। डीआईजी ने बताया कि उसे आत्मसमर्पण की राशि 3 लाख और हथियार समर्पण की राशि 15 हजार मिलना था जिसमें एक लाख का चेक अभी दिया गया। शेष राशि के साथ ही पुनर्वास पैकेज का लाभ भी उसे मिलेगा।

ताला दा और विजय दा के दस्ते में काम कर चुका है गंगा राय

27 वर्षीय गंगा प्रसाद राय काठीकुंड के मझला सरुवापानी गांव का निवासी है। वह वर्ष 2014 में अपने गांव के रहने वाले इनामी जोनल कमांडर सहदेव राय उर्फ ताला दा के प्रभाव में आ कर नक्सली बना था। ताला दा मुठभेड़ में मारा जा चुका है। वह जोनल कमांडर ताला दा और सैक सदस्य नंदलाल मांझी उर्फ विजय दा के दस्ते में काम कर चुका है। वह दुमका जिला के दो नक्सली कांडों में वांटेड था। इसमें एक केस काठीकुंड थाना में और दूसरा रामगढ़ थाना में दर्ज है। डीआईजी सुदर्शन मंडल ने बताया कि नक्सली गंगा प्रसाद राय माओवादी संगठन में शिकारीपाड़ा, काठीकुंड, गोपीकांदर, सुंदरपहाड़ी में सक्रिय था। ताला दा के मारे जाने के बाद संताल परगना में माओवादी संगठन कमजोर पड़ा है। डीआईजी ने बताया कि एसएसबी एवं जिला पुलिस बल के द्वारा नक्सलियों के विरुद्ध लगातार दबिश बनाई जा रही थी। सरकार के प्रत्यार्पण एवं पुर्नवास नीति से प्रभावित होकर बुधवार को नक्सली ने पुलिस के समक्ष आत्म सपर्मण किया। डीआईजी ने बताया कि संताल परगना में अब नक्सली गतिविधियां नियंत्रण में है। देवा देहरी,पतरा देहरी,रानी देवी सहित 4-5 नक्सलियों के कभी-कभी मसलिया इलाके में घुमने की सूचना मिलती है।

सरेंडर करें वरना जिंदा नहीं बचेंगे:डीआईजी,एसएसबी

एसएसबी गया के डीआईजी टी सेरिंग ने बताया कि एसएसबी,झारखंड पुलिस आदि के कम्बाईड अभियान चलाने की वजह से सफलता मिल रही है। झारखंड सरकार का प्रत्यार्पण एवं पुनर्वास नीति से भी नक्सली प्रभावित हो रहे है। उन्होंने युवा नक्सलियों से अपील करते हुए कहा कि सरकार के पुनर्वास नीति के तहत सरेंडर कर दें। अगर नक्सली सरेंडर नहीं करते है तो अधिक समय तक जंगल में जिंदा नहीं रहने देंगे।

भटके हुए युवा मुख्य धारा में लौट आएं:डीसी

दुमका के उपायुक्त रवि शंकर शुक्ला ने कहा कि अपील करते हुए कहा कि समाज से भटके हुए युवा मुख्य धारा में लौट आए। सरेंडर करें। सरकार एवं जिला प्रशासन का सहयोग करें। उपायुक्त ने कहा कि सरकार की पुनर्वास योजना के तहत जो भी लाभ है उसे मिलेगा। ससमय एवं तत्परता के साथ हर संभव मदद किया जाएगा।

--

जिन दो मामलों में गंगा राय पर दर्ज है केस

1.काठीकुंड थाना (कांड संख्या 41/16, दिनांक 7 जुलाई 2016)-काठीकुंड के बसकिया पहाड़ में भाकपा (माओवादी) उग्रवादियों द्वारा विस्फोटक पदार्थ को छुपाकर रखा गया था। इसे बरामद किया गया था।

2. रामगढ़ थाना(कांड संख्या 43/16 दिनांक-19 जून 2016)-ग्राम-आमपाड़ा में प्राथमिकी अभियुक्तों द्वारा षडयंत्र रचकर लेवी नहीं देने के कारण माओवादी/उग्रवादियों को गांव में बुलाकर जानलेवा हमला कराने का प्रयास करना और अवैध देशी आग्नेयास्त्र एंव गोली बरामद होने से संबंधित घटना

संबंधित खबरें