DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

कलंक के खिलाफः घूस लेते दो बीडीओ और एक लेखपाल गिरफ्तार

धनबाद में गिरफ्तार घूसखोर लेखपाल

संताल और कोयलांचल में मंगलवार को तीन सरकारी अधिकारी घूस लेते हुए गिरफ्तार किए गए हैं। इनमें धनबाद और बोकारो के दो बीडीओ और देवघर के लेखपाल हैं।

धनबाद जिले के बाघमारा में पदस्थापित गिरिजानंद किस्कू ठेकेदार से बिल भुगतान के लिए 50 हजार रुपए ले रहे थे। वहीं बोकारो जिले के नावाडीह बीडीओ अरुण उरांव अपने ही कार्यालय के सहायक से 35 हजार रुपए लेते दबोचे गए, वे अपने चालक के माध्यम से पैसे ले रहे थे।
दोनों को उनके सरकारी आवास से पकड़ा गया। एसीबी ने शाम में दोनों बीडीओ और चालक को निगरानी कोर्ट के समक्ष पेश किया, जहां से उन्हें जेल भेज दिया गया। एक साथ दो बीडीओ की गिरफ्तारी से धनबाद और बोकारो जिले के सरकारी दफ्तरों में हड़कंप मच गया। एसीबी के एसपी सुदर्शन प्रसाद मंडल ने बताया कि दोनों मामलों में सूचक ने एसीबी को शिकायत की थी। एसीबी ने आरोपों के सत्यापन के बाद उन्हें घूस लेते पकड़ा।
एसीबी को देख बाथरूम में घुस गए अरुण उरांव
नावाडीह के बीडीओ अरुण उरांव के खिलाफ उनके कार्यालय में सहायक के पद पर कार्यरत चतरा तुलबुल निवासी संतोष कुमार ने एसीबी के एसपी को शिकायत की थी। एसीबी की योजना के अनुसार मंगलवार की सुबह संतोष बीडीओ अरुण उरांव को घूस देने पहुंचा था। बीडीओ ने कहा कि उनके चालक कलीम अंसारी को रुपए दे दें। जैसे ही चालक ने रुपए पकड़े एसीबी की टीम वहां पहुंच गई। एसीबी की टीम को देख अरुण कुमार बाथरूम में घुस गए। काफी मशक्कत के बाद उन्हें बाथरूम से बाहर निकाला गया। जैसे-तैसे बनियान और टॉवल में ही उन्हें एसीबी टीम धनबाद लेकर पहुंची।
थाने में कपालभांति करने लगे नावाडीह बीडीओ
रिश्वतखोरी का पर्दाफाश होने के बाद अरुण और चालक कलीम को लेकर एसीबी की टीम धनबाद पहुंची। एसीबी थाने में बीडीओ के चेहरे पर चिंता की लकीरें थीं, लेकिन उन्हें देखकर कहीं से भी ऐसा नहीं लग रहा था कि उन्हें कोई अफसोस है। अरुण कुमार मीडिया के सामने अपने अजब अंदाज में पेश आए। फोटोग्राफरों को देख कर वे बनियान और टॉवल में ही जमीन पर बैठ कर कपालभांति (प्रणायाम) करने लगे। संतोष ने बताया कि उनकी तबीयत खराब रहने के कारण दो महीना 14 दिन ऑफिस नहीं आ पाए थे। छुट्टी के दौरान उन्हें वेतन नहीं मिला। वेतन दिलाने के एवज में बीडीओ ने 40 हजार रुपए की मांग की। रुपए देने के आश्वासन पर अगस्त में पैसा दिला दिया, लेकिन सातवें वेतन आयोग की सिफारिशों के अनुसार मिलने वाला एरियर भुगतान लटका दिया। एरियर दिलाने के लिए ही बीडीओ घूस ले रहा था।
गिरिजानंद ने एसीबी को दे डाला घूस का ऑफर
बाघमारा बीडीओ गिरिजानंद किस्कू जब एसीबी की जाल में फंस गया तो उसने एसीबी टीम को ही रिश्वत का ऑफर दे दिया। एसीबी टीम के इंकार के बाद बीडीओ को दिन में तारे नजर आने लगे। राजगंज दलुडीह निवासी ठेकेदार राजेश्वर प्रसाद मुंशी ने बताया कि बीडीओ ने जीना हराम कर रखा था। उन्होंने 14वें वित्त आयोग की राशि से सात चापाकल, तीन जल कूप, और एक चबूतरा निर्माण का कार्य किया था। करीब दो लाख नौ हजार रुपए बाकी था, लेकिन बीडीओ बिल निकासी में अड़ंगा लगा रहे थे। बीडीओ ने एक लाख रुपए की मांग की थी। ठेकेदार ने दो किस्तों में रकम देने की बात कही थी। रकम के साथ पकड़े जाने पर एसीबी टीम ने उनके हाथ को कैमिकल में धोया तो उनका हाथ गुलाबी हो गया। ठेकेदार ने कहा कि मैं भी पूर्व मुखिया रहा हूं। बीडीओ ने बाघमारा में मुखिया को दुखिया बना रखा है।

देवघर में सहिया से लेखपाल रहे थे ढाई हजार

देवघर जिले के देवीपुर प्रखण्ड क्षेत्र में एसीबी दुमका की टीम ने मंगलवार को छापेमारी कर देवीपुर प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र में कार्यरत प्रखंड लेखापाल राजीव कुमार सिंह को रंगेहाथ गिरफ्तार कर लिया। एसीबी टीम ने 2500 रुपया घूस लेते हुए पकड़ा है। हुसैनाबाद निवासी सहिया अनीता देवी की शिकायत पर एसीबी दुमका की टीम ने कार्रवाई कर आरोपी राजीव कुमार सिंह को रंगेहाथ पकड़ा। ग्राम स्वास्थ्य स्वच्छता एवं पोषण समिति के मद में आयी राशि की मांग करने पर सहिया से 2500 रुपए बतौर घूस मांगी जा रही थी। सहिया ने इसकी शिकायत एंटी करप्शन ब्यूरो में की।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Two BDOs and one Lekhpal arrested for taking bribe