The patient kept dying the doctor kept busy in mobile - मरीज मरता रहा, डॉक्टर मोबाइल में व्यस्त रहीं DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

मरीज मरता रहा, डॉक्टर मोबाइल में व्यस्त रहीं

मरीज मरता रहा, डॉक्टर मोबाइल में व्यस्त रहीं

पीएमसीएच की इमरजेंसी में रविवार से भर्ती कतरास शिक्षक कॉलोनी निवासी 48 वर्षीय अशोक वर्मा की मौत हो गई। वर्मा की मौत के बाद सामाजिक कार्यकर्ता अंकित राजगढ़िया और मृतक के परिजनों ने इमरजेंसी में हंगामा किया। लोग डॉक्टर पर इलाज में लावरवाही का आरोप लगा रहे थे। उनका कहना था कि मरीज की जान निकल रही थी और इमरजेंसी में ड्यूटी कर रही डॉक्टर मोबाइल पर व्यस्त थीं। नर्सों के कहने के बाद भी डॉक्टर मरीज को देखने वार्ड में नहीं आई। मौत के 20 मिनट बाद डॉक्टर चैंबर से निकली और मौत की पुष्टि की।

हालांकि इमरजेंसी के डॉक्टरों ने इन आरोपों को गलत बताया है। पीएमसीएच अधीक्षक डॉ एचके सिंह के अनुसार मरीज काफी गंभीर था। परिजनों को पहले ही उसकी स्थिति से अवगत करा दिया गया है। इलाज में किसी तरह की लापरवाही नहीं बरती गई है।

घटना के बारे में परिजनों ने बताया कि गंभीर रूप से बीमार अशोक की तबीयत दोपहर लगभग तीन बजे अचानक बिगड़ गई। परिजनों ने डॉक्टर को बुलाया। लेकिन वे नहीं आए। 10 मिनट बाद उनकी मौत हो गई। मौके पर मौजूद राजगढ़िया के अनुसार नर्सों ने इसकी जानकारी डॉक्टरों को दी। बावजूद डॉक्टर नहीं आई। इमरजेंसी में डॉक्टर मोबाइल देखने में व्यस्त थीं। वे लोग बैठ कर एक-दूसरे से गप्प लड़ा रही थीं। आधा घंटा बाद एक डॉक्टर वार्ड में आईं और मरीज को मृत घोषित किया। सुरक्षाकर्मियों समेत दूसरे मरीज के परिजनों के समझाने के बाद लोग शांत हुए और अंतिम संस्कार के लिए शव ले गए।

बेटियों का रो-रो कर बुरा हाल

अशोक वर्मा की मौत के बाद पीएमसीएच में मौजूद उनकी दो बेटियां दहाड़ मार कर रोने लगीं। उनके रोने की आवाज से पूरा इमरजेंसी दहल उठा। वार्ड में लोगों की भीड़ लग गई। लोगों के समझाने के बाद भी उनके आंसू थम नहीं रहे थे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:The patient kept dying the doctor kept busy in mobile