ट्रेंडिंग न्यूज़

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ झारखंड धनबादबंद रेल फाटक खुलवाने के लिए आम सभा में स्वत: उमड़ी भीड़

बंद रेल फाटक खुलवाने के लिए आम सभा में स्वत: उमड़ी भीड़

झरिया/जोड़ापोखर प्रतिनिधि। पिछले डेढ़ वर्ष से बंद भागा रेल फाटक को खुलवाने के लिए रविवार को जामाडोबा आंबेदकर चौक पर विशाल आम सभा में लोग एकता का...

बंद रेल फाटक खुलवाने के लिए आम सभा में स्वत: उमड़ी भीड़
Newswrapहिन्दुस्तान टीम,धनबादMon, 23 May 2022 01:01 AM
ऐप पर पढ़ें

झरिया/जोड़ापोखर प्रतिनिधि। पिछले डेढ़ वर्ष से बंद भागा रेल फाटक को खुलवाने के लिए रविवार को जामाडोबा आंबेदकर चौक पर विशाल आम सभा में लोग एकता का परिचय देते हुए भारी संख्या में पहुंचे। आम जन से लेकर व्यवसायी वर्ग का अपार समर्थन मिला। सभी ने एक स्वर पर कहा कि बंद फाटक को खोलकर लोगों को समस्या से निजात दिलाया जाये। फाटक बंद रहने से फूसबंगला-जामाडोबा मार्ग पिछले डेढ़ वर्ष से बंद है। लोगों को झरिया-सिंदरी मुख्य मार्ग पर पहुंचने के लिए अतिरिक्त तीन किलोमीटर की दूरी तय करनी पड़ रही है। जामाडोबा की 50 हजार से अधिक की आबादी पूरी तरह से कट चुकी है। मुख्य मार्ग से टाटा अस्पताल जाने के लिए लोगों को काफी दूरी तय कर पहुंचना पड़ रहा है। आम सभा में वक्ताओं ने कहा कि अगर 15 दिनों के अंदर जिला प्रशासन रास्ता नहीं खोलता है तो उग्र आंदोलन होगा। रेलवे फाटक खोलने की मांग को लेकर पूर्व पार्षद मनोज साव का आमरण अनशन दूसरे दिन भी जारी रहा। मनोज साव ने कहा कि जबतक रेलवे फाटक को जिला प्रशासन नही खोलता तब तक आमरण अनशन जारी रहेगा।

इस व्यवस्था में चार साल में भी नहीं बन सकेगा ओवर ब्रिज:

इससे पूर्व जामाडोबा में सभी व्यवसायियों ने अपनी दुकानें बंद कर सभा में शामिल हुए। जामाडोबा में बड़े प्रतिष्ठान से लेकर गुमटी तक बंद रहे। जामाडोबा चेंबर ऑफ कामर्स के आरिफ सिद्दिकी ने कहा कि जो व्यवस्था है उस व्यवस्था में चार साल में भी ओवर ब्रिज का निर्माण संभव नहीं है। हमें अच्छे दिन नहीं चाहिए, हमें पुराने दिन ही लौटा दिजिए। बंद फाटक को खोलकर आवागमन शुरू होना चाहिए।

टापू बनाकर छोड़ दिया गया है लोगों को:

संबोधित करते हुए भाजपा नेता योगेन्द्र यादव, श्रमिक नेता एस जिया अहमद, लोजपा अल्पसंख्यक के प्रदेश अध्यक्ष बेलाल खान ने कहा कि हर हाल में फाटक को खोलना चाहिए। रास्ता बंद रहने से लोग कितनी कठिनाई से गुजर रहे हैं, इसकी सुधि लेने वाला भी कोई नहीं है। टापू बनाकर यहां के लोगों को छोड़ दिया गया है। यहां पर दो कोलियरियां और अस्पताल है। मरीजों को आने जाने में परेशानी होती है। व्यापार चौपट हो रहा है। यहां के विधायक, सांसद चुप्पी साधे हुए हैं। आंदोलन में किन्नर समाज का भी समर्थना मिला। सभा में नौशाद खान, पूर्व पार्षद सुजीत सिंह, जय कुमार, अनुरंजन सिंह, कांग्रेसी नेता शमशेर आलम, यूनियन नेता ओम प्रकाश सिंह, फूसबंगला चेंबर के शुभाशीष राय, छात्र नेता राकेश सिंह, रणधीर सिंह, मनीष सिन्हा, भाजपा नेता अखिलेश सिंह किन्नर समाज की दर्जनों लोग आये थे। जामाडोबा बाजार के सैकड़ों दुकानदार ओर आम जनता शामिल थी।

epaper