ट्रेंडिंग न्यूज़

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ झारखंड धनबादस्टेशन रोड पर जाम का ठीकरा बस मालिकों ने ऑटो वालों पर फोड़ा

स्टेशन रोड पर जाम का ठीकरा बस मालिकों ने ऑटो वालों पर फोड़ा

स्टेशन रोड पर ऑटो चालकों का राज है। ऑटो की तीन-तीन लेयर सड़क पर लगी रहती है, लेकिन इन्हें न तो सड़क पर लगने वाले जाम की फिक्र है न ही ट्रैफिक पुलिस का...

स्टेशन रोड पर जाम का ठीकरा बस मालिकों ने ऑटो वालों पर फोड़ा
Newswrapहिन्दुस्तान टीम,धनबादFri, 02 Dec 2022 02:20 AM
ऐप पर पढ़ें

धनबाद, कार्यालय संवाददाता

स्टेशन रोड पर ऑटो चालकों का राज है। ऑटो की तीन-तीन लेयर सड़क पर लगी रहती है, लेकिन इन्हें न तो सड़क पर लगने वाले जाम की फिक्र है न ही ट्रैफिक पुलिस का डर। क्योंकि ऑटो चालकों के खिलाफ कोई कार्रवाई ही नहीं होती। यह कहना है कि स्टेशन रोड बस ओनर एसेासिएशन का। गुरुवार को बस संचालकों ने प्रेस वार्ता कर ऑटो चालकों की मनमानी और जिला प्रशासन की नाकामी को जाम लगने का कारण बताया। एसोसिएशन के अध्यक्ष सुमित सिंह ने कहा कि स्टेशन रोड पर बसों का ठहराव पांच मिनट के लिए है। इसे अक्षरश: अनुपालन कराया जा रहा है। कोई भी इसकी औचक जांच करा सकता है, लेकिन ऑटो चालकों ने स्टेशन रोड पर अराजक स्थिति बना रखी है।

श्रमिक चौक पर खत्म हो गई नो इंट्री गई!

एसोसिएशन के मिस्टर खान ने बताया कि श्रमिक चौक पर पुलिस की शिथिलता के कारण स्टेशन रोड की ओर नो इंट्री खत्म हो गई है। पूरे दिन बाइक बेधड़क इस रूट पर आती-जाती है, लेकिन पोस्ट पर ट्रैफिक पुलिस रहने के बाद कोई रोकने- टोकने वाला नहीं है। नतीजा जाम लगता है। स्टेशन के दोनों गेट पर मुख्य सड़क पर तीन लेन पर ऑटो आड़े- तिरछे लगे रहते हैं। वाहन से क्या पैदल चलना भी दूभर है। शंकर यादव ने बताया कि रेलवे ने दुकानों को हटाकर अपनी जमीन घेर लिया। अब दुकानें घेरे के बाहर और वाहनों की पार्किंग बीच सड़क पर होती। इसके अलावा बगैर रूट और लोगो वाले ऑटो धड़ल्ले से शहर में प्रवेश कर रहे हैं। इनके खिलाफ अभियान चलता ही नहीं। ट्रैफिक और परिवहन विभाग का नियमित अभियान चले तो इस मनमानी पर अंकुश लगाया जा सकता है। प्रेस वार्ता में सुमित सिंह, संजय यादव, शंभुनाथ सिंह, शंकर यादव, बबलू खान, आजाद खान, नैयर परवेज, बबलू सिंह, पिंटू सिंह, मिस्टर खान सहित अन्य उपस्थित थे।

स्टेशन के बाहर से बस स्टैंड हटा दें, जाम नहीं लगेगा: ऑटो एसोसिएशन

इस मुद्दे पर पलटवार करते हुए ऑटो एसोसिएशन के छोटन सिंह ने कहा कि जाम के लिए सिर्फ ऑटो को जिम्मेदार ठहराना गलत होगा। किसी भी बड़े शहर में स्टेशन के बाहर बस स्टैंड नहीं है। जो था, उसे हटा कर दूर कर दिया गया है। जाम के कारण ही पिछली बार स्टेशन रोड से बस स्टैंड हटाया गया। शहर के अंदर की बजाय बाहर का रूट दिया गया, लेकिन अपनी रसूख से बस संचालक फिर से आदेश वापस करावा लिए। अभी भी आम जनता की मांग है कि बसों का रूट शहर की बजाय बाहर-बाहर ही होना चाहिए।

यह हिन्दुस्तान अखबार की ऑटेमेटेड न्यूज फीड है, इसे लाइव हिन्दुस्तान की टीम ने संपादित नहीं किया है।