DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

छात्रों ने पूछा- जीरो नंबर देने के लिए कौन है जिम्मेवार

छात्रों ने पूछा- जीरो नंबर देने के लिए कौन है जिम्मेवार

आईटीआई के हजारों छात्र को इंजीनियरिंग ड्राइंग एवं ट्रेड प्रैक्टिकल में जीरो नंबर देने का विरोध शुरू हो गया है। आईटीआई धनबाद के छात्रों ने गुरुवार को डीसी कार्यालय को ज्ञापन सौंपकर इसपर सवाल उठाया। छात्रों ने कहा कि उन्हें न्याय दिया जाए। छात्रों ने सूचनाधिकार के तहत यह पूछा है कि जीरो नंबर देने के लिए कौन जिम्मेदार है। उनके भविष्य क्या होगा। छह नवंबर को एनसीवीटी ने आईटीआई छात्रों का रिजल्ट जारी किया।

झारखंड के हजारों छात्रों को इंजीनियरिंग ड्राइंग एवं प्रैक्टिकल ट्रेड में जीरो नंबर दिया गया, जिससे सभी फेल हो गए। जब मामले की जांच हुई, तो यह पता चला कि पांच अक्तूबर से सरकारी आईटीआई के अनुदेशक बेमियादी हड़ताल पर हैं। इस कारण इन कॉपियों की जांच ही नहीं हुई। एनसीवीटी ने झारखंड के छात्रों को जीरो नंबर देते हुए देशभर का रिजल्ट जारी कर दिया। छात्रों का कहना है कि सभी प्रशिक्षणार्थियों को फेल कर दिया गया। हजारों छात्रों के भविष्य से खिलवाड़ किया गया। फोर्थ सेमेस्टर के छात्र-छात्राएं कई सरकारी और गैर-सरकारी भर्ती के लिए अयोग्य हो गए हैं। ऐसे छात्र अब आवेदन ही नहीं कर पाएंगे। डीसी से संज्ञान लेने का अनुरोध किया गया। मौके पर आकाश चटर्जी, राजेश कुमार, राजा, दीपक समेत अन्य छात्र मौजूद थे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Students asked- Who is responsible for giving zero number