srimad bhagwat katha - मित्रता में कोई छोटा-बड़ा नहीं होता है: आचार्य दीनानाथ DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

मित्रता में कोई छोटा-बड़ा नहीं होता है: आचार्य दीनानाथ

मित्रता में कोई छोटा-बड़ा नहीं होता है: आचार्य दीनानाथ

1 / 4पुराना स्टेशन में आयोजित श्रमद् भागवत कथा के सांतवें दिन आचार्य दीनानाथ ने सुदामा चत्रित्र का वर्णन किया गया। उन्होंने कहा कि मित्रता में कोई छोटा बड़ा नहीं होता है। सच्चे मित्र की पहचान कर उसे हमेशा...

मित्रता में कोई छोटा-बड़ा नहीं होता है: आचार्य दीनानाथ

2 / 4पुराना स्टेशन में आयोजित श्रमद् भागवत कथा के सांतवें दिन आचार्य दीनानाथ ने सुदामा चत्रित्र का वर्णन किया गया। उन्होंने कहा कि मित्रता में कोई छोटा बड़ा नहीं होता है। सच्चे मित्र की पहचान कर उसे हमेशा...

मित्रता में कोई छोटा-बड़ा नहीं होता है: आचार्य दीनानाथ

3 / 4पुराना स्टेशन में आयोजित श्रमद् भागवत कथा के सांतवें दिन आचार्य दीनानाथ ने सुदामा चत्रित्र का वर्णन किया गया। उन्होंने कहा कि मित्रता में कोई छोटा बड़ा नहीं होता है। सच्चे मित्र की पहचान कर उसे हमेशा...

मित्रता में कोई छोटा-बड़ा नहीं होता है: आचार्य दीनानाथ

4 / 4पुराना स्टेशन में आयोजित श्रमद् भागवत कथा के सांतवें दिन आचार्य दीनानाथ ने सुदामा चत्रित्र का वर्णन किया गया। उन्होंने कहा कि मित्रता में कोई छोटा बड़ा नहीं होता है। सच्चे मित्र की पहचान कर उसे हमेशा...

PreviousNext

पुराना स्टेशन में आयोजित श्रीमद् भागवत कथा के सांतवें दिन मंगलवार को आचार्य दीनानाथ ने सुदामा चरित्र का वर्णन किया गया। उन्होंने कहा कि मित्रता में कोई छोटा बड़ा नहीं होता है। सच्चे मित्र की पहचान कर उसे हमेशा साथ देना चाहिए।

उन्होंने सुदामा का द्वारिकाधीश से मिलने जाना, पहरेदारों द्वारा सुदामा को द्वारिका के द्वार पर ही रोक देना और श्रीकृष्ण को सुदामा के आने का पता चलने पर नंगे पैर दौड़ते हुए बिना पिताम्बर धारण किए अपने परम मित्र सुदामा से मिलने जाना, सुदामा का आतिथ्य का जब वर्णन किया तो सभी भक्तगण भावविभोर हो उठे। सुदामा की मित्रता को निभाकर भगवान ने अपने दीनदयालु नाम को सार्थक किया।

कृष्ण सुदामा की कथा के मार्मिक प्रसंग को सुनते श्रद्धालुओं की आंखें नम हो गईं। उन्होंने कहा कि इस कथा से यह संदेश मिलता है कि मित्रता में पद और प्रतिष्ठा आड़े नहीं आना चाहिए।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:srimad bhagwat katha