ट्रेंडिंग न्यूज़

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ झारखंड धनबाद50 हजार का इनामी शशि सिंह बना बेटे का पिता

50 हजार का इनामी शशि सिंह बना बेटे का पिता

::शशि सिंह और आशनि सिंह के नाम से फाइल फोटो :: -------------------- ::मेंशन में

50 हजार का इनामी शशि सिंह बना बेटे का पिता
Newswrapहिन्दुस्तान टीम,धनबादSat, 22 May 2021 04:23 AM
ऐप पर पढ़ें

दस साल से फरार शशि सिंह बना बेटे का पिता

धनबाद। रविकांत झा

मोस्टवांटेड शशि सिंह फरारी में फिर पिता बना। उसकी पत्नी सह बलिया की पूर्व जिप सदस्य आशनि सिंह ने पुत्र को जन्म दिया है। 10 साल से पुलिस शशि की तलाश कर रही है। कोल किंग सुरेश सिंह की सरेआम हत्या में शशि के सिर पर 50 हजार रुपए का इनाम घोषित है। वह फरारी में ही दो पुत्रियों के बाद पुत्र का पिता बना और पुलिस हाथ पर हाथ धरे बैठी रही। मजेदार बात तो यह है कि शशि सिंह की शादी भी फरारी में ही 2011 में हुई थी।

सात दिसंबर-2011 को धनबाद क्लब में आयोजित एक रिसेप्शन पार्टी में शशि सिंह ने सैकड़ों लोगों की आंखों के सामने सुरेश सिंह पर गोलियां बरसाई थीं। इस मामले में धनबाद पुलिस ने 20 मई 2012 को शशि को फरार दिखाते हुए न्यायालय में चार्जशीट सौंपी थी। 10 अक्तूबर-2012 को सेशन कोर्ट ने शशि को फरार घोषित किया था। बाद में उसके खिलाफ स्थायी वारंट जारी उसे मोस्टवांटेड घोषित किया गया। 2011 से अबतक धनबाद में 11 पुलिस कप्तान बदल चुके हैं, लेकिन कोई भी आईपीएस अधिकारी शशि को गिरफ्तार करने की ठोस रणनीति नहीं बना सकें।

हाईकोर्ट के आदेश के बावजूद पुलिस की नहीं खुली नींद

शशि सिंह को गिरफ्तार करने के लिए रांची हाईकोर्ट अबतक दो बार आदेश दे चुकी है। हाईकोर्ट ने 16 मई 2016 को दूसरी बार धनबाद पुलिस को शशि को गिरफ्तार करने का सख्त आदेश दिया था। 20 दिसंबर 2011 को उसके खिलाफ इश्तेहार निकला था। 23 जनवरी 2012 को कुर्की जारी किया गया। वारंट, इश्तेहार व कुर्की के बावजूद शशि ने न तो कोर्ट में सरेंडर किया और न ही पुलिस उसे पकड़ पाई। कानून के पहरेदारों ने उसके खिलाफ इनाम घोषित कर मामले को ठंडे बस्ते में डाल दिया।

आशनि सिंह ने रामधीर को दिया वारिस

शशि सिंह बलिया के पूर्व जिप अध्यक्ष रामधीर सिंह का इकलौता पुत्र है। शशि के पुत्र के जन्म के साथ विनोद हत्याकांड में आजीवन सजा काट रहे रामधीर सिंह को वारिस मिल गया है। आशनि व शशि के बेटे की किलकारियों से सिंह मेंशन से लेकर इंडौरी फैक्ट्री और यूपी बलिया में शशि के पैतृक गांव गोनिया छपरा तक जश्न का माहौल है। शशि की मां और धनबाद की पहली मेयर इंदू देवी झरिया की पूर्व विधायक कुंती देवी की अपनी बहन और देवरानी दोनों हैं। पारिवारिक कारणों से 2019 से इंदू देवी कुंती निवास व सिंह मेंशन को छोड़कर इंडौरी फैक्ट्री में रह रही हैं। आशनि भी इंदू के साथ ही रहती हैं। इंदू के घर में लंबे अर्से बाद खुशियों ने दस्तक दी है।