DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

रिश्ता शर्मसार : मुंहबोले बाप की काली करतूत, गांव वालों ने दी एेसी सजा

गावां थाना क्षेत्र के चरकी में शनिवार को बाप-बेटी के रिश्ते को तार-तार कर देनेवाली घटना सामने आई। एक अधेड़ ने चार माह पूर्व जिस लड़की को अपनी बेटी मानकर उसका कन्यादान किया था, उसी के साथ रंगरेलियां मनाते पकड़ा गया। बाद में ग्रामीणों ने कलियुगी मुंहबोले पिता की जमकर पिटाई की। सिर के आधे बाल एवं आधी मूंछ मुंडवाकर गले में जूते की माला पहनाई। पूरे गांव में घुमाया, फिर दोनों की  मंदिर में शादी करवा दी।
क्या है मामला : गिरिडीह जिले के बिरनी थाना क्षेत्र के बिराजपुर निवासी उपेन्द्र राम ओझा-गुणी करता था। सरिया के पिपराटांड़ की एक युवती झाड़-फूंक के बहाने उसके संपर्क में आई और दोनों में प्रेम हो गया। ओझा ने अपनी कारस्तानी छुपाने के लिए उक्त युवती के परिजनों संग नजदीकियां बढ़ाकर पूरे परिवार से घरेलू संबंध बना लिए। 2017 के अप्रैल में उपेन्द्र ने प्रयास कर गावां थाना क्षेत्र के चरकी में उक्त युवती की शादी करवा दी। लोगों की नजरों से अपने नापाक रिश्ते को छुपाने के लिए उपेन्द्र ने युवती की शादी के दौरान उसे अपनी बेटी मान कर एक पिता की हैसियत से शादी में पूरे तन-मन से लगा रहा। साथ ही उसका कन्यादान भी किया। इसके बाद वह लगातार समय-समय पर युवती के ससुराल चरकी एक पिता की हैसियत से जाने लगा। चूंकि उसने शादी में कन्यादान किया था, इस कारण ससुराल वालों को उसके बार-बार आने में कोई संदेह था। कुछ समय बाद शक होने पर लोगों ने इन दोनों पर नजर रखना शुरू किया तो मुंहबोले बाप-बेटी के रिश्ते के पीछे दोनों के नापाक रिश्ते सामने आ गए। ग्रामीणों ने शनिवार को दोनों को रंगरेलियां मनाते पकड़ लिया। इसके बाद ग्रामीणों ने पहले तो अधेड़ की जमकर धुनाई की उसके बाद उसका आधा सिर मुंडवाकर उसके गले में चप्पल-जूते की माला पहनई और पूरे गांव में घुमाया। इसके बाद दोनों की स्थानीय मंदिर में शादी करवा दी।
बता दें कि उपेन्द्र राम चार बच्चों का पिता है और वह दादा भी बन गया है। फिलहाल उसकी पत्नी भी जिंदा है। शादी के बाद दोनों को गांव से बाहर निकाल दिया गया। घटना की चहुंओर निंदा हो रही है और लोग इस कलियुगी रिश्ते को जमकर कोस रहे हैं।

 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Relation shame: the black act of mouth say father, the villagers gave the punishment