DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

रांची पुलिस मदद करती तो बच सकती थी हेमंत-महेंद्र की जान

रांची पुलिस मदद करती तो बच सकती थी हेमंत-महेंद्र की जान

रांची में अग्रवाल बंधुओं की हत्या मामले में पिता ओमप्रकाश अग्रवाल ने रांची पुलिस को ही कठघरे में खड़ा किया है। ओमप्रकाश अग्रवाल ने कहा है कि रांची पुलिस ने किसी प्रकार का सहयोग नहीं किया। जब बेटे ने फोन नहीं उठाया तो वह स्वयं लालपुर थाना पहुंचे। वहां पर पुलिस को सूचना देते हुए कहा कि बेटा फोन नहीं उठा रहा है। वह गायब है। उसकी खोज करें।

पुलिस को आवेदन भी दिया लेकिन पुलिस ने कोई दिलचस्पी नहीं दिखाई। थक-हार कर हमलोग खुद खोजने के लिए निकले। खोजते-खोजते जब लोकेश के घर पर पहुंचे तो वहां पर बेटे की स्कूटी देखी। पुलिस को सूचना देने पर उनलोगों ने कहा कि हमलोगों के पास अभी गाड़ी नहीं है। ओमप्रकाश ने पत्रकारों से बातचीत में कहा कि अगर रांची पुलिस सूचना मिलने के साथ ही सक्रिय हो जाती तो शायद मेरे बेटे की जान बच सकती थी।

शनिवार को ओम प्रकाश अग्रवाल ने मारवाड़ी यूथ ब्रिगेड व मारवाड़ी युवा मंच के प्रतिनिधिमंडल के साथ धनबाद डीसी ए दोड्डे से मुलाकात की। हेमंत अग्रवाल व महेंद्र अग्रवाल के हत्यारों को अविलंब गिरफ्तार करने तथा उनके विरुद्ध फास्ट ट्रैक अदालत में मुकदमा चला कर कड़ी सजा दिलाने की मांग की। उन्होंने कहा कि एक साथ दोनों बेटों को खो दिया। अब प्रशासन की जिम्मेवारी है कि न्याय करें। आरोपियों को कड़ी सजा मिले। प्रतिनिधिमंडल में शामिल सदस्यों ने कहा कि दोनों भाइयों की हत्या से मारवाड़ी समाज के साथ-साथ कोयलांचल के व्यवसाय जगत में भारी आक्रोश है। इस घटना से कारोबारी काफी सहमे हुए हैं। अपने आप को असुरक्षित महसूस कर रहे हैं। मृतक हेमंत एवं महेंद्र रांची के लालपुर में रहते थे। वहीं कारोबार करते थे।

डीसी ने आश्वासन दिया

डीसी ने इस दुख की घड़ी में ओमप्रकाश अग्रवाल को ढांढस बंधाया। हर संभव सहायता का आश्वासन दिया। प्रतिनिधिमंडल में संजीव अग्रवाल, कृष्णा अग्रवाल, ओम प्रकाश अग्रवाल, महेन्द्र अग्रवाल, मिठू सरिया, पवन सोनी, प्रवीण अग्रवाल, विकास झांझरिया, संजय गोयल आदि थे।

रांची में मिला था शव

रांची के अशोक नगर रोड नंबर एक के एक निजी चैनल कार्यालय में बुधवार को हेमंत व महेन्द्र अग्रवाल का शव मिला था। दोनों की गोली मारकर हत्या की गई थी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Ranchi police could help save Hemant Mahendra s life