ट्रेंडिंग न्यूज़

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ झारखंड धनबादडीसी लाइन के विकल्प पर रेलवे सुस्त, नहीं मिल रहा फंड

डीसी लाइन के विकल्प पर रेलवे सुस्त, नहीं मिल रहा फंड

धनबाद-चंद्रपुरा रेलखंड के आसपास आग और धुआं निकलने की घटनाओं के सामने आते ही धनबाद के लोग सहम उठते हैं। सबको 15 जून 2017 का वह दिन याद आने लगता है जब...

डीसी लाइन के विकल्प पर रेलवे सुस्त, नहीं मिल रहा फंड
Newswrapहिन्दुस्तान टीम,धनबादWed, 09 Dec 2020 03:25 AM

धनबाद मुख्य संवाददाता

धनबाद-चंद्रपुरा रेलखंड के आसपास आग और धुआं निकलने की घटनाओं के सामने आते ही धनबाद के लोग सहम उठते हैं। सबको 15 जून 2017 का वह दिन याद आने लगता है, जब रेलवे ने इस रेलखंड पर ट्रेनों का परिचालन ही बंद कर दिया था। धनबाद से राजधानी रांची का कनेक्शन लगभग टूट गया था। लोकसभा चुनाव से पूर्व 24 फरवरी 2019 को फिर से उसी डीसी लाइन पर रेल परिचालन शुरू कर दिया गया। उस समय घोषणा की गई थी कि जल्द ही डीसी लाइन के समानांतर नई वैकल्पिक मार्ग तैयार की जाएगी।

सरकार अपनी इस घोषणा पर गंभीर नहीं है। विकल्प के रूप में रेलवे धनबाद से मतारी-तेलो होकर चंद्रपुरा तक 44 किलोमीटर रेल पटरी बनाने के दिशा में काम कर रहा है। इसके लिए डीपीआर भी तैयार की जा चुकी है, जिसे रेलवे बोर्ड और राइट्स से हरी झंडी मिल चुकी है। लेकिन इस योजना को धरातल पर उतारने के लिए बजट में राशि का आवंटन नहीं किया जा रहा है। पिछले दो वर्षों से डीसी लाइन के लिए बजट में राशि का प्रावधान नहीं किया गया।

डीसी लाइन का क्या है विकल्प

विकल्प के तौर पर धनबाद से मतारी होकर हावड़ा-नई दिल्ली रेल लाइन के समानांतर और वहां से तेलो तक डबल लाइन बिछाकर डीसी लाइन का विकल्प तैयार करना है। तेलो से मतारी के बीच ओवरब्रिज भी बनाने की योजना है। योजना के अनुसार मतारी से तेलो तक नई डबल लाइन बिछेगी ताकि गोमो जाए बिना ट्रेन चंद्रपुरा की तरफ निकल जाए।

epaper