ट्रेंडिंग न्यूज़

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ झारखंड धनबादसिंडिकेट का सिक्का जमाने के लिए रेल ठेकेदार की हुई हत्या

सिंडिकेट का सिक्का जमाने के लिए रेल ठेकेदार की हुई हत्या

धनबाद। आद्रा रेल मंडल के सिविल वर्क में सिंडिकेट का सिक्का जमाने के लिए रेल ठेकेदार कुसुम विहार निवासी लव कुमार उर्फ बबलू सिंह की हत्या कराई...

सिंडिकेट का सिक्का जमाने के लिए रेल ठेकेदार की हुई हत्या
Newswrapहिन्दुस्तान टीम,धनबादThu, 14 Apr 2022 02:31 AM
ऐप पर पढ़ें

धनबाद। आद्रा रेल मंडल के सिविल वर्क में सिंडिकेट का सिक्का जमाने के लिए रेल ठेकेदार कुसुम विहार निवासी लव कुमार उर्फ बबलू सिंह की हत्या कराई गई। बबलू की हत्या में पुलिस ने डुमरी दो नंबर जोड़ापोखर निवासी मनोज कुमार, जूतागेट डुमरी दो नंबर निवासी राजीव कुमार रजक और यूपी आजमगढ़ बेंतपुर आमदही जहानागंज निवासी राम बिलास चौहान को गिरफ्तार किया है। पुलिस इस कांड में तीन अन्य आरोपियों की तलाश में है।

यह जानकारी पुलिस ऑफिस में बुधवार को पत्रकारों से बातचीत करते हुए एसएसपी संजीव कुमार ने दी। बताया कि कुछ ठेकेदारों ने रेल ठेकों की ऊंची दर पर हासिल करने के लिए एक सिंडिकेट बनाया था। बबलू सिंह को भी सिंडिकेट में शामिल होने को कहा जाता था, लेकिन वह नहीं बने। बबलू ठेकों में मनमाफिक रेट कोड करते थे। जबकि सिंडिकेट सेटिंग कर हाईरेट डाल कर कांट्रैक्ट हासिल करता था। सेटिंग के तहत ठेकेदारों से ऊंचे रेट पर डमी टेंडर डलवाए जाते थे। सिंडिकेट में सक्रिय रहने वालों को हर ठेके पर निश्चित राशि हिस्से के रूप में मिल जाती थी। बता दें कि दो अप्रैल को जोड़ाफाटक थाना क्षेत्र के फुसबंगला रेल फाटक के पास बबलू सिंह को गोलियों से भून दिया गया था। उन्हें पांच गोलियां मारी गई थीं। एसएसपी ने बताया कि आरोपियों के पास से पुलिस ने 20 हजार रुपए नगद के अलावा एक नाइन एमएम पिस्टल (दो लोड गोली के साथ), एक 7.65 बोर का देसी पिस्टल, एक गोली और एक कट्टा व दो गोली बरामद की है। 7.65 बोर के पिस्टल से ही बबलू सिंह को गोलियां मारी गई थीं। बातचीत के दौरान मौके पर ग्रामीण एसपी रिष्मा रमेशन, सिंदरी डीएसपी अभिषेक कुमार, जोड़ापोखर थाना प्रभारी राजदेव सिंह आदि उपस्थित थे।

मनोज ने निभाई लोकल लिंक की भूमिका: एसएसपी ने बताया कि बबलू सिंह से मनोज का पहले भी विवाद हुआ था। वर्ष 2019 में मनोज ने ही बबलू के कुसुम विहार स्थित घर पर बम और गोलियां चलवाई थीं। बबलू की हत्या में उसने लोकल लिंक की भूमिका निभाई है। शूटरों को हथियार उपलब्ध कराने से लेकर बबलू की रेकी करने और हत्या कराने में तीनों आरोपियों की भूमिका रही है। बताया जा रहा है कि राम बिलास चौहान की गोली चलाने में प्रत्यक्ष भूमिका है। जेल गए मनोज की छवि दागदार रही है। राजीव बच्चों को ट्यूशन पढ़ाता था। उसका दूध का भी कारोबार था। जबकि राम बिलास के संबंध में जानकारी हासिल करने के लिए धनबाद पुलिस यूपी पुलिस के संपर्क में है।

मुजफ्फरपुर के एक शख्स की तलाश: एसएसपी ने बताया कि कांड में शामिल सभी आरोपियों को जल्द पकड़ लिया जाएगा। इस मामले में मुजफ्फरपुर के एक शख्स की तलाश हो रही है। इसके अलावा अन्य दो की भी तलाश है। पकड़े गए आरोपियों ने पुलिस को कई अहम जानकारी दी है। इन जानकारियों को फिलहाल सार्वजनिक नहीं किया जा सकता। इधर, बबलू सिंह के पिता शशिभूषण सिंह ने आरोपियों की गिरफ्तारी पर कहा कि अभी असली आरोपी नहीं पकड़े गए हैं। उन्होंने अपना इकलौता बेटा खोया है उन्हें न्याय चाहिए।

epaper