DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

गुरुनानक देव का प्रकाशोत्सव 23 को

गुरुनानक देव जी का 549वां प्रकाशोत्सव 23 नवंबर को मनाया जाएगा। तैयारियां जोरों पर चल रही हैं। मटकुरिया रोड स्थित बड़ा गुरुद्वारा को भव्य और आकर्षक रूप से सजाया जाएगा। गुरुद्वारा परिसर स्थित जीजीपीएस मैदान में मुख्य दरबार सजाया जाएगा। शबद गायन के लिए स्वर्ण मंदिर के प्रख्यात रागी जत्था भाई कुलदीप सिंह और कथावाचक अमृतसर से जसवंत सिंह मंजी आएंगे। पूरा सिख समुदाय प्रकाशोत्सव की तैयारी में अपने स्तर से जुटा है। 22 नवंबर को नगर कीर्तन निकाला जाएगा। झरिया के कोयरीबांध से सुबह 10.30 बजे शुरू होने वाले कीर्तन में हैरतअंगेज कारनामे देखने को मिलेंगे। पंच प्यारे की अगुवाई में नगर कीर्तन शुरू होगा। गुरुद्वारा में हजारों की संख्या में लोग शामिल होंगे। आने वाले लोगों के लिए लंगर की व्यवस्था की जाएगी। सिख मार्शल आर्ट ग्रुप लाठी, डंडे के साथ तलवार और ढाल के करतब नजर आएंगे। अमृतसर का वीर खालसा दल मुख्य आकर्षण का केंद्र होगा, जो युद्ध कला का जौहर दिखाएगा। बच्चे पीटी और भांगड़ा करेंगे। महिलाओं का जत्था गुरुवाणी कीर्तन करती दिखेगी। युवा सिख सड़क की सफाई करते चलेंगे। नगर कीर्तन में पंच प्यारे फूलों से सजी गुरु ग्रंथ साहब की पालकी की अगवानी करेंगे। बड़ा गुरुद्वारा प्रबंध कमेटी के सचिव तेजपाल सिंह और सतपाल सिंह ने बताया कि तीन दिन तक कार्यक्रम होगा। 21 की शाम 7.30 बजे कथावाचक भाई जसवंत सिंह मंजी साहिब अमृतसर वाले प्रवचन कर संगतों को निहाल करेंगे। 8.30 बजे से रागी जत्था कुलदीप सिंह कीर्तन गायन करेंगे। लंगर लगेगा। 22 को नगर कीर्तन और 23 नवंबर को मुख्य कार्यक्रम गुरुद्वारा ग्राउंड में होगा। पंडाल में सुबह 10 से दोपहर तीन बजे तक दीवान सजेगा। दोपहर में लंगर होगा। शाम सात बजे से रात 12.45 बजे तक कार्यक्रम चलेगा। मौके पर तीरथ सिंह, गुरुचरण सिंह माझा, डीएस गिल, दिलजोन सिंह, सुरेंदर पाल, जलबीर सिंह आदि मौजूद थे। 1921 से शहर में गुरुनानक देव के प्रकाशोत्सव का आयोजन हो रहा है। साल दर साल आयोजन भव्य होता गया। बैंक मोड़ बड़ा गुरुद्वारा बनने के साथ आयोजन की शुरुआत हुई। परंपरागत तरीके से यात्रा निकाली जाती है। इस बार भी 23 नवंबर को झरिया के कोयरीबांध से नगर शोभायात्रा निकाली जाएगी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Prakashtas of Guru Nanak Dev