ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News झारखंड धनबादअल्पसंख्यक क्षेत्रों में लोग नहीं खा रहे फाइलेरिया रोधी दवा

अल्पसंख्यक क्षेत्रों में लोग नहीं खा रहे फाइलेरिया रोधी दवा

धनबाद/वरीय संवाददाता फाइलेरिया से बचाव के लिए जिला में फाइलेरिया उन्न्मूलन कार्यक्रम चलाया जा रहा है। स्वास्थ्य विभाग के कर्मचारी घर-घर जाकर लोगों...

अल्पसंख्यक क्षेत्रों में लोग नहीं खा रहे फाइलेरिया रोधी दवा
हिन्दुस्तान टीम,धनबादTue, 27 Feb 2024 01:45 AM
ऐप पर पढ़ें

धनबाद/वरीय संवाददाता
फाइलेरिया से बचाव के लिए जिला में फाइलेरिया उन्न्मूलन कार्यक्रम चलाया जा रहा है। स्वास्थ्य विभाग के कर्मचारी घर-घर जाकर लोगों को फाइलेरिया रोधी दवा खिला रहे हैं। इसके लिए जागरूकता अभियान भी चलाया जा रहा है। बावजूद वासेपुर समेत जिला के क्षेत्रों में यह अभियान अपने मुकाम तक नहीं पहुंच पा रहा। लोग दवा खाने से इनकार कर दे रहे हैं। नतीजा यह अभियान अपने लक्ष्य के विरूद्ध 85 ´प्रतिशत से आगे नहीं बढ़ पा रहा है।

बता दें कि जिला में 10 फरवरी से फाइलेरिया रोधी दवा डीईसी और एल्बेंडाजोल की गोली खिलाने के लिए अभियान चलाया जा रहा है। यह अभियान 25 फरवरी तक चला। 26 लाख 52 हजार 960 लोगों को दवा खिलाने का लक्ष्य था। तय तिथि तक लक्ष्य पूरा नहीं हो सका। जिसके कारण अभियान की तिथि बढ़ाकर 29 फरवरी की गई। बावजूद परिणाम संतोषजनक नहीं आ रहा है। उपलब्धि 85.23 प्रतिशत तक पहुंच पाई है। अधिकारियों के अनुसार वासेपुर, टिकियापाड़ा, झरिया के शाह नगर, शमशेर नगर आदि क्षेत्रों में लोग दवा नहीं खा रहे हैं। टुंडी के कदइयां, केस्का, लटानी समेत गोविंदपुर आदि क्षेत्र की उपलब्धि काफी कम है।

जागरूकता का भी असर नहीं: इन क्षेत्रों में लोगों को जागरूक करने के लिए विशेष जागरूकता अभियान चलाया गया था। बावजूद लोग दवा खाने को तैयार नहीं हो रहे हैं। काफी कहने पर लोग बाद में दवा खाने का आश्वासन देकर मांगने लगते हैं। लेकिन स्वास्थ्य कर्मचारी के सामने दवा खाने को तैयार नहीं हो रहे। जबकि सरकार के निर्देश के अनुसार स्वास्थ्य कर्मियों को अपने सामने लाभुक को दवा खिलानी है।

अपार्टमेंट में भी परेशानी: शहर के अपार्टमेंट में भी लोग फाइलेरिया रोधी दवा खिलाने में स्वास्थ्य कर्मचारियों को परेशानी हो रही है। सोमवार को शहरी क्षेत्र के 25 अपार्टमेंट में दवा खिलाने का लक्ष्य रखा गया था। पूरी तैयारी के साथ टीम वहां गई भी थी। लेकिन मात्र 10 अपार्टमेंट में ही लोगों को दवा खिला सकी। कई अपार्टमेंट में तो स्वास्थ्य कर्मचारियों को अंदर जाने तक नहीं दिया गया। गार्ड ने उन्हें गेट पर ही रोक लिया। इससे लोगों को लक्ष्य के अनरुप दवा नहीं खिलाई जा सकी।

यह हिन्दुस्तान अखबार की ऑटेमेटेड न्यूज फीड है, इसे लाइव हिन्दुस्तान की टीम ने संपादित नहीं किया है।
हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें