DA Image
26 फरवरी, 2020|11:53|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सरकारी अस्पतालों में मरीजों को नहीं मिल रहा आयुष्मान का लाभ

default image

आयुष्मान भारत योजना के तहत मरीजों को लाभ देने में जिले के सरकारी अस्पताल फिसड्डी साबित हो रहे हैं। इस योजना को एक साल होने को हैं। पीएमसीएच को छोड़ दें तो जिले को कोई भी सरकारी अस्पताल लाभुकों की संख्या में दो अंकों के आंकड़े को पार नहीं कर सका है। कई सरकारी अस्पताल तो सिर्फ नाम के इस योजना से जुड़े हैं। वहां मरीजों को इसका कोई लाभ नहीं मिलता।

बता दें कि जिला में कुल 31 अयुष्मान भारत से जुड़ा है। इसमें पीएमसीएच समेत 10 अस्पताल सरकारी हैं। 26 जून तक अकेला पीएमसीएच ही एमकात्र सरकारी अस्पताल था, जहां इस योजना के शुरुआत से 114 मरीजों को इसका लाभ मिला है, जबकि इस योजना के जिला के सभी सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र समेत केंदुआडीह शहरी स्वास्थ्य केंद्र भी जुड़ा है।

चार प्रखंडों की स्थिति सबसे खराब

आयुष्मान भारत योजना का लाभ देने में गोविंदपुर, सिंदरी सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र समेत केन्दुआडीह शहरी स्वास्थ्य केंद्र की स्थिति सबसे खराब है। यहां एक साल में मात्र एक-एक लाभुक को आयुष्मान भारत योजना का लाभ दिया गया है। निरसा स्वास्थ्य केंद्र में मात्र तीन मरीजों को इसका लाभ मिला है।

कहां कितना लाभुक

पीएमसीएच : 114

झरिया सीएचसी : 18

टुंडी सीएचसी : 10

बलिापुर सीएचसी : 12

बाघमारा सीएचसी : 07

निरसा सीएचसी : 03

तोपचांची सीएचसी : 08

बलियापुर सीएचसी : 01

सिंदरी सीएचसी : 01

केन्दुआडीह यूसीएचसी : 01

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Patients in government hospitals are not getting the benefit of Ayushman