DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

विवाद खत्म, पूर्व के शिक्षक ही वरीय होंगे

वर्ष 2015 में स्नातक प्रशिक्षित शिक्षक के पद पर नियुक्त शिक्षक व पूर्व से कार्यरत शिक्षकों के बीच वरीयता को लेकर शुरू हुआ विवाद फिलहाल खत्म हो गया है। जिला शिक्षा अधीक्षक कार्यालय धनबाद ने एक पत्र जारी कर कहा है कि शिक्षक नियुक्ति नियमावली 2012 के आलोक में नई प्रोन्नति नियमावली तैयार/ संशोधन होने तक स्नातक प्रशिक्षित पदों पर सीधी नियुक्ति के तहत नियुक्त शिक्षक पूर्व में नियुक्त एवं कार्यरत शिक्षक ही नियमानुसार वरीय होंगे।

बताते चलें कि कई स्कूलों में नए शिक्षकों को प्रभारी प्रधानाध्यापक बनाने का विरोध पूर्व के शिक्षकों ने किया। यह मामला चर्चा में रहा। मामले में डीएसई विनीत कुमार ने कहा कि विभागीय स्तर पर अंतिम कार्रवाई वर्तमान में प्रक्रियाधीन है। इसकारण यह कदम उठाया गया है। अगर किसी स्कूल में नए को प्रभारी बना दिया गया है और कोई वरीय शिक्षक प्रभारी बनना चाहते हैं तो अपना दावा प्रस्तुत करें। विभाग कार्रवाई करेगा। मामले में अखिल झारखंड प्राथमिक शिक्षक संघ के जिला महासचिव नंदकिशोर सिंह ने कहा कि विभाग ने पत्र जारी कर दिया है। अब वरीय शिक्षकों को प्रभार दिया जाए।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Over the dispute, the former teachers will be preferred