DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

फायनेंस कंपनी को 30 दिनों में गाड़ी लौटाने का आदेश

फाइनेंस कंपनी को 30 दिन के अंदर जब्त की गई बाइक लौटाने का आदेश उपभोक्ता फोरम ने दिया है। बलियापुर निवासी श्रीराम प्रसाद टुडू ने 30 जनवरी 2018 को उपभोक्ता फोरम में फाइनेंस कंपनी के खिलाफ शिकायतवाद दायर किया था। कहा था कि उन्होंने कंपनी से ऋण लेकर बाइक खरीदी थी। प्रत्येक माह किश्त जमा की। किश्त की रकम पूरी होने के बाद वह बैंक मोड़ स्थित फाइनेंस कंपनी के ऑफिस नो ड्यूज का पेपर लेने गए लेकिन ऑफिस में फाइनेंस कंपनी के कर्मियों ने यह कह कर बाइक जब्त कर ली कि किश्त बकाया है। बकाया नहीं देने पर बाइक की बिक्री कर दी जाएगी।

फोरम में अपना पक्ष रखते हुए फाइनेंस कंपनी ने कहा कि परिवादी द्वारा दो किश्त जमा नहीं किए गए हैं। फोरम ने परिवादी को बगैर डिमांड नोटिस, बगैर जब्ती नोटिस और बगैर जब्ती सूची के बाइक जब्त कर लेना विपक्षी की सेवा में घोर त्रुटि बताया। आदेश दिया कि अगर तीन दिन के अंदर परिवादी दो किश्त की राशि जमा करते हैं तो उन्हें उनकी बाइक लौटा दी जाए। अगर गाड़ी नहीं लौटा सकते तो चार साल बाद गाड़ी का मूल्य 40 हजार रुपए लौटा दें। वाद खर्च और मानसिक प्रताड़ना के लिए अलग से तीन हजार रुपए भुगतान का आदेश दिया गया है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Order to return the bike to the finance company within 30 days