DA Image
Thursday, December 2, 2021
हमें फॉलो करें :

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ झारखंड धनबादआज से कार्य बहिष्कार पर जाएंगे 4000 से ज्यादा एनएचएमकर्मी

आज से कार्य बहिष्कार पर जाएंगे 4000 से ज्यादा एनएचएमकर्मी

हिन्दुस्तान टीम,धनबादNewswrap
Sat, 23 Oct 2021 03:51 AM
आज से कार्य बहिष्कार पर जाएंगे 4000 से ज्यादा एनएचएमकर्मी

धनबाद वरीय संवाददाता

चार सूत्री मांगों को लेकर जिले के लगभग 4000 नेशनल हेल्थ मिशन (एनएचएम) अनुबंध कर्मी शनिवार से अनिश्चितकालीन कार्य बहिष्कार आंदोलन पर चले जाएंगे। यह राज्यव्यापी आंदोलन है, जिसमें सभी जिलों के एनएचएम कर्मचारी शामिल हैं।

इस कार्य बहिष्कार को लेकर शुक्रवार को सिविल सर्जन कार्यालय के सभाकक्ष में जिला के एनएचएम कर्मचारियों की बैठक हुई। इस बैठक में विभिन्न विभागों में कार्यरत 50 से ज्यादा कर्मचारी शामिल हुए। बैठक में एकमत से कार्य बहिष्कार पर जाने का निर्णय लिया गया और इसकी पूर्व सूचना सिविल सर्जन डॉ श्याम किशोर कांत को दे दी गई।

बैठक के बाद सिविल सर्जन कार्यालय में मौजूद कर्मचारियों ने झारखंड स्वास्थ्य कर्मचारी कल्याण संगठन के बैनर तले मेनगेट पर बैठ कर इस आंदोलन का शंखनाद भी कर दिया। इसमें एएनएम, जीएनएम, लैब टेक्नीशियन, फार्मासिस्ट, सहिया साथी, एमपीडब्ल्यू, एनवीबीडीसीपी, आरएनटीसीपी, एनसीडी, एनएलपी तथा एनएचएम यूनिट में कार्यरत कर्मचारी शामिल थे। कर्मचारियों ने कहा है कि शनिवार से आंदोलन अपने विस्तृत स्वरूप में दिखेगा।

स्वास्थ्य विभाग का कामकाज होगा ठप

एनएचएम के कर्मचारी स्वास्थ्य विभाग के सभी विभागों और शाखा में कार्यरत हैं। स्वास्थ्य विभाग की पूरी गाड़ी लगभग 3000 सहिया के सहारे चलती है। आंदोलन में ये लोग शामिल हैं। उसके अलावा जिला मलेरिया विभाग, यक्ष्मा नियंत्रण, कुष्ठ उन्मूलन, आईडीएसपी समेत अन्य सभी विभागों का कामकाज इस कार्य बहिष्कार आंदोलन के कारण पूरी तरह ठप रहने की आशंका है।

कोरोना की जांच से लेकर रिपोर्टिंग तक बंद

आंदोलन की जद में वैश्विक महामारी कोरोना भी आने वाला है। कर्मचारियों के अनुसार कोरोना का सैंपल कलेक्शन, आरटी-पीसीआर व ट्रूनेट जांच, रिपोर्टिंग समेत तमाम कार्य एनएचएम कर्मचारियों के माध्यम से हो रहा है। यह सारा काम शनिवार से बंद कर दिया जाएगा। जब तक कर्मचारियों की मांगे पूरी नहीं होंगी, कोई काम नहीं किया जाएगा।

यह है मांगें

- राज्य कार्यक्रम प्रबंधक ज्वाला प्रसाद को योजनाबद्ध तरीके से टारगेट कर बर्खास्त किया गया है। उनकी बर्खास्तगी वापस ली जाए। साथ में कोविड-19 के दौरान बर्खास्त किए गए सभी एनएचएम कर्मचारियों की बर्खास्तगी रद्द की जाए

- पब्लिक हेल्थ कैडर को तत्काल प्रभाव से लागू करते हुए अनुबंध के तहत कार्यरत एनएचएम कर्मचारियों को नियमित किया जाए

- उच्च पदाधिकारियों द्वारा एनएचएम कर्मियों के साथ किए जा रहे दुर्व्यवहार एवं मानसिक प्रताड़ना को बंद किया जाए

- पहले की तरह रविवारीय आकाश के साथ कार्यपालक एवं राजपत्रित अवकाश को तत्काल लागू किया जाए। विशेष परिस्थितियों को छोड़ कर कोई भी बैठक अवकाश के दिनों में आयोजित नहीं की जाए

सब्सक्राइब करें हिन्दुस्तान का डेली न्यूज़लेटर

संबंधित खबरें