DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

मेंशन के मामा की जमानत याचिका खारिज

नीरज सिंह हत्याकांड से संबंधित आर्म्स एक्ट के एक अलग मामले में गिरफ्तार सिंह मेंशन के मामा प्रशांत सिंह की जमानत अर्जी बुधवार को अदालत ने खारिज कर दी। बुधवार को जिला एवं सत्र न्यायाधीश 11 ने प्रशांत सिंह की जमानत अर्जी पर पर सुनवाई करते हुए बेल खारिज करने का आदेश दिया। जमानत अर्जी पर बहस करते हुए प्रशांत के अधिवक्ता देवी शरण सिन्हा ने अदालत को बताया कि आरोपी के खिलाफ सिर्फ सह अभियुक्त मोनू सिंह की स्वीकारोक्ति बयान के अलावे और कुछ भी नहीं है। पुलिस जिस आर्म्स की बरामदगी का दावा कर रही है वह अशोक महतो के घर से बरामद किया गया है जबकि वहां प्रशांत सिंह मौजूद भी नहीं था। उन्होंने दलील देते हुए कहा कि अनुसंधान पूरा हो चुका है और केस डायरी में उसके खिलाफ कुछ भी पुलिस साक्ष्य नहीं ला पाई है। उन्होंने अभियुक्त प्रशांत सिंह की गिरफ्तारी पर सवाल उठाते हुए अदालत को बताया कि पुलिस ने उनके साथ थर्ड डिग्री का इस्तेमाल किया है। जिस कारण उन्हें इलाज के लिए जालान अस्पताल से लेकर रिम्स तक जाना पड़ा था। उन्होंने केस डायरी के पारा 21 का हवाला देते हुए कहा है कि पुलिस स्वयं स्वीकार करती है कि प्रशांत सिंह सरायढेला थाना में अपना पक्ष रखने आए थे, जहां उनकी तबीयत बिगड़ गई और उन्हें अस्पताल में दाखिल करवाना पड़ा। केस डायरी के पारा 23 का हवाला देते हुए देवी शरण सिन्हा ने कहा कि 29 मार्च को पुलिस ने उन्हें जालान अस्पताल से गिरफ्तारी दिखाई थी, जबकि उन्हें उस दिन अदालत के समक्ष पेश नहीं किया गया था। इस तरह पुलिस की ओर से धारा 57 दंड प्रक्रिया संहिता का उल्लंघन किया गया है। इसके तहत पुलिस 24 घंटे से ज्यादा किसी को अवरुद्ध नहीं कर सकती। उन्होंने कहा कि यह मामला नीरज सिंह हत्याकांड से संबंधित नहीं है और प्रशांत सिंह का कोई पहले से आपराधिक इतिहास रहा है। सहायक लोक अभियोजक ने जमानत अर्जी का जोरदार विरोध किया। मामले की गंभीरता को देखते हुए अदालत ने जमानत अर्जी रद्द कर दी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Mention of maternal uncle's bail plea dismissed