DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

- केंदुआपुल के पास गोली मार कर की गई थी पीडीएस दुकानदार की हत्या

विनय वर्मा हत्याकांड में आठ दिन के बाद भी पुलिस के हाथ खाली हैं। कांड में पुलिस अभी तक हत्यारों तक नहीं पहुंच सकी है। विरोध में गुरुवार को विनय वर्मा के परिजन , केंदुआडीह के व्यवसाई व आम लोग रणधीर वर्मा चौक पर धरना दिए। हाथों में तख्तियां लिए लोग केंदुआडीह पुलिस के खिलाफ नारेबाजी कर रहे थे। मौके पर विनय वर्मा की पत्नी व बच्चे भी मौजूद थे। वक्ताओं ने कहा कि इससे पूर्व जब केंदुआडीह थाने में शांति समिति की बैठक हुई थी तो विनय वर्मा ने जोर देते हुए अनहोनी की अशंका जताई थी। लेकिन पुलिस ने इसे अनसूना कर दिया। नतिजनन सरेराह विनय वर्मा की गोली मार कर हत्या कर दी गई। केंदुआ से आए व्यवसाइयों ने कहा कि विनय वर्मा के परिजनों की मदद करने वालों को धमकी दी जा रही है। एक तो सरेआम हत्या उसके बाद मदद करने वालों को भी धमकी, केंदुआ में पुलिस व्यवस्था पुरी तरह से फेल है। अपराधियों को किसी का भय नहीं हैं। लोगों ने क्षेत्र में टाइगर जवानों की तैनाती और केंदुआपुल से सिनेमा हॉल तक एनएच को अतिक्रमण से मुक्त कराने की मांग की है। और फूट-फूट कर रोने लगी विनय वर्मा की पत्नी धरना में विनय वर्मा की पत्नी व दोनों बच्चे भी मौजुद थे। नन्ही हाथों में पिता के हत्यारों को गिरफ्तार करने का स्लोगन लिखे तख्ती लेकर बैठे दोनों बच्चे भी नारे लगा रहे थे। बच्चे जब पिता के हत्यारों को गिरफ्तार करने के नारे लगा रहे थे तो मां फूट-फूट कर रोने लगी। उन्होंने कहा कि उनके आंखों के सामने हर रोज पति के हत्यारों को खुलेआम घुमते देखती है। उसके लिए यह सब सहना आसान नहीं हैं। पुलिस गिरफ्तार करने की बजाए मौन हैं। बॉक्स 23 मई की रात साढ़े दस बजे केंदुआ पुल के पास पीडीएस दुकानदार विनय वर्मा की गोली मार हत्या कर दी गई थी। हमलावरों ने नजदीक से विनय के सिर पर गोली दाग थी। सेंट्रल अस्पताल में इलाज के दौरान उसकी मौत हो गई थी। परिजनों ने संजय खटिक व अन्य के खिलाफ हत्या का आरोप लगाया था।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:In the peace committee meeting, Vinay expressed his expectation of murder