ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News झारखंड धनबादइमरजेंसी में माइनर के साथ मेजर ओटी भी चलेगा

इमरजेंसी में माइनर के साथ मेजर ओटी भी चलेगा

धनबाद मेडिकल कॉलेज अस्पताल की इमरजेंसी में अब मेजर ओटी (ऑपरेशन थिएटर) भी चलेगा। इसकी तैयारी शुरू कर दी गई...

इमरजेंसी में माइनर के साथ मेजर ओटी भी चलेगा
हिन्दुस्तान टीम,धनबादTue, 25 Jun 2024 02:15 AM
ऐप पर पढ़ें

धनबाद, प्रमुख संवाददाता
धनबाद मेडिकल कॉलेज अस्पताल की इमरजेंसी में अब मेजर ओटी (ऑपरेशन थिएटर) भी चलेगा। इसकी तैयारी शुरू कर दी गई है। इमरजेंसी के मेजर ओटी में आवश्यक चिकित्सीय उपकरण समेत अन्य संसाधन की व्यवस्था की जा रही है। अधिकारियों की मानें जो जल्द इसका लाभ मरीजों को मिलने लगेगा।

बता दें कि इस मेडिकल कॉलेज अस्पताल की इमरजेंसी में फिलहाल सिर्फ माइनर ओटी का इस्तेमाल किया जाता है। यहां छोटी-मोटी सर्जरी होती है। बड़ी सर्जरी की नौबत आने पर इनडोर के ओटी को खेलना पड़ता है। वहां मरीज को ले जाया जाता है और सर्जरी की जाती है। आमतौर पर रात में यहां सर्जरी नहीं होती। मेजर सर्जरी की जरूरत होती है तो मरीज को रेफर कर दिया जाता है। या फिर दूसरे दिन उसकी सर्जरी की जाती है। इन समस्याओं को देखते हुए अस्पताल प्रबंधन ने इमरजेंसी में बने मेजर ओटी को शुरू करने की दिशा में पहल की है ताकि इमरजेंसी में यदि बड़ी सर्जरी की जरूरत पड़े तो वहीं डॉक्टर के बुलाकर करा दी जाए।

वर्षों पहले बना था मेजर ओटी

इमरजेंसी में सर्जिकल आईसीयू वार्ड के पीछे वर्षों पहले मेजर ओटी बनाया गया था, लेकिन अभी इसका इस्तेमाल नहीं किया गया। अस्पताल प्रबंधन अब इसका इस्तेमाल करने की तैयारी में है ताकि इमरजेंसी में आने वाले मरीजों की वहीं कम से कम समय में सर्जरी की जा सके और उसकी जान बचाई जा सके।

हमेशा रहेगा तैयार

अधिकारियों की मानें तो हर सर्जरी के बाद ओटी को दूसरी सर्जरी के लिए दोबारा तैयार करना पड़ता है। इसमें काफी समय लगता है। आमतौर पर विभागों के ओटी में एक सर्जरी के दौरान क्रिटिकल केस आने पर भी दूसरी सर्जरी तुरंत नहीं हो पाती। इमरजेंसी का मेजर ओटी हमेशा तैयार रहेगा। नियमित ओटी व्यस्त रहने की स्थिति में इसका इस्तेमाल हो सकेगा।

मरीजों को तत्काल चिकित्सीय सुविधा उपलब्ध कराने के लिए इमरजेंसी का मेजर ओटी शुरू किया जा रहा है। इससे इमरजेंसी में आने वाले घायलों की तत्काल सर्जरी हो पाएगी।

- डॉ ज्योति रंजन प्रसाद, प्राचार्य एसएनएमएमसीएच

यह हिन्दुस्तान अखबार की ऑटेमेटेड न्यूज फीड है, इसे लाइव हिन्दुस्तान की टीम ने संपादित नहीं किया है।