DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

पौने दो लाख में कैसे तैयार होगा झारखंड पब्लिक स्‍कूल, धनबाद में 10 चयनित स्कूलों के साथ डीएसई की बैठक आज

पब्लिक स्कूलों की तर्ज पर सरकारी स्कूलों को झारखंड पब्लिक स्कूल में बदला जाएगा। हिन्दी माध्यम की तुलना में यह अंग्रेजी माध्यम का स्कूल होगा। जिले में 10 व राज्य में 260 स्कूलों से झारखंड पब्लिक स्कूल की शुरुआत हो रही है। सरकारी स्कूलों को झारखंड पब्लिक स्कूल के रूप में अपग्रेड करने की तैयारी शुरू करने के निर्देश के बीच संबंधित स्कूलों की परेशानी भी बढ़ गई है। स्कूलों को पब्लिक स्कूलों की तर्ज पर व्यवस्था करने के लिए पौने दो लाख रुपए मिलेंगे। स्कूलों का कहना है कि पौने दो लाख रुपए में क्या होगा? पब्लिक स्कूलों की तर्ज पर पौने दो लाख रुपए में क्या-क्या व्यवस्था कर पाएंगे? हमलोग विस्तृत दिशा निर्देश का इंतजार कर रहे हैं। यह भी सवाल उठ रहा है कि कहीं इसका हाल भी केजी नामांकन का न हो जाए। हालांकि सरकार की महत्वाकांक्षी योजना होने के कारण यह भी संभावना जताई जा रही है कि चरणबद्ध ढंग से राशि मिल सकती है। मामले में डीएसई विनीत कुमार का कहना है कि शुक्रवार को सभी 10 हेडमास्टरों की बैठक बुलाई गई है। बैठक में तैयारी की समीक्षा की जाएगी। -- वर्तमान स्कूलों के शिक्षकों का होगा साक्षात्कार धनबाद में झारखंड पब्लिक स्कूलों के लिए प्रत्येक प्रखंड में एक-एक स्कूलों का चयन किया गया है। धनबाद के 10 स्कूलों में वर्तमान में कार्य कर रहे शिक्षकों का साक्षात्कार डीएसई व अन्य अधिकारी लेंगे। साक्षात्कार के बाद यह तय होगा कि संबंधित शिक्षक वहां रहने के योग्य हैं या नहीं। अंग्रेजी बोलचाल को प्राथमिकता देनी है। जिन शिक्षकों की अंग्रेजी कमजोर होगी। वहां से हटाकर योग्य शिक्षक दिए जाएंगे। जानकारों का कहना है कि विषयवार शिक्षक की पोस्टिंग की जाएगी। अगर इन स्कूलों में ड्रेस की खरीदारी नहीं हुई है तो ड्रेस की खरीदारी नहीं होगी। यहां के बच्चों के लिए अलग डिजाइन के ड्रेस होंगे। - नाम बदलने के लिए जारी करना होगा संकल्प सूत्रों का कहना है कि 10 सरकारी स्कूलों समेत राज्य के 260 स्कूलों का नाम बदलकर झारखंड पब्लिक स्कूल करने के लिए व अन्य नई व्यवस्था करने के लिए स्कूली शिक्षा व साक्षरता विभाग को संकल्प जारी करना होगा। नाम बदलने व अन्य प्रक्रिया में काफी समय लगता है। मार्निंग एसेंबली को धीरे-धीरे अंग्रेजी की तरफ बढ़ाना है। बाल संसद को जीवंत करने से लेकर अन्य प्रक्रिया शुरू करनी है। क्लासरूम का इंटीरियर डिजाइन भी होने की चर्चा है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:How to prepare Jharkhand Public School in two lakhs