DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

वेक्टर बोर्न डिजीज रोकने को सरकार ने जारी किया पीला पत्र

वेक्टर बोर्न डिजीज रोकने को सरकार ने जारी किया पीला पत्र

बारिश के साथ राज्य में वेक्टर बोर्न डिजीज (परजीवी द्वारा फैलायी जाने वाली बीमारी) का खतरा बढ़ गया है। इस संभावित खतरे को लेकर स्वास्थ्य विभाग गंभीर है। लोगों को बीमारियों से बचाने के लिए स्वास्थ्य विभाग के प्रधान सचिव निधि खरे ने जिला उपायुक्तों को पीला पत्र जारी किया है।

स्वास्थ्य अधिकारियों की मानें तो विभाग में पहली बार सार्वजनिक रूप से पीला पत्र जारी हुआ है। इसका उद्देश्य वेक्टर बोर्न डिजीज की रोकथाम के लिए दिए गए निर्देशों का अक्षरश: पालन सुनिश्चित कराना है। इसकी अवहेलना या क्रियान्वयन में लापरवाही जिम्मेवार अधिकारियों पर भारी पड़ सकता है।

बता दें कि झारखंड में कालाजार, मलेरिया, फाइलेरिया, डेंगू, चिकनगुनिया और जापानी इंसेफ्लाइटिस (जेई) महत्वपूर्ण वेक्टर बोर्न डिजीज हैं। बरसात में इन बीमारियों के फैलने का खतरा ज्यादा होता है। नतीजा सरकार के स्तर से पीत पत्र जारी कर इसे रोकने के उपायों के क्रियान्वयन का निर्देश दिया गया है। उपायुक्त ने सिविल सर्जन और सिविल सर्जन ने सभी एमओआईसी, पीएमसीएएच, बीसीसीएल समेत अन्य अस्पतालों को आश्वयक निर्देश दिया है।

ये होना है काम

सरकार द्वारा जारी निर्देश के अनुसार उक्त सभी बीमारियों की रोकथाम के लिए क्षेत्र में अभियान चलाना है। बीमारी फैलने की स्थिति में मरीजों को बेहतर चिकित्सीय सुविधा उपलब्ध करायी जानी है।

तो हो सकती है जेल

सभी सरकारी और गैर सरकारी अस्पतालों में मलेरिया व डेंगू के मरीजों की सूचना स्वास्थ्य विभाग को देनी है। ऐसा नहीं करने वालों के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज करायी जाएगी। 200 रुपए जुर्माना और एक माह जेल की सजा का प्रावधान है।

मलेरियाकर्मियों को रोकना अपराध

यदि मलेरियाकर्मी को किसी घर में मलेरिया के मरीज के होने का पता चलता है तो उसे घर का मालिक भी घर में जाने से नहीं रोक सकता। ऐसा करने वालों के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज करायी जाएगी।

हर सप्ताह लगेगा ऑपरेशन शिविर

फाइलेरिया उन्मूलन के लिए सभी सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्रों व सरकारी अस्पतालों में हर सप्ताह एक दिन हाइड्रोसिल ऑपरेशन कैंप लगेगा। एक ऑपरेशन पर सरकार 750 रुपए खर्च करेगी। मरीज को 300 रुपए का दवा और 100 रुपए आने जाने के लिए मिलेगा। ऑपरेशन करने वाले सर्जन को 250 रुपए मिलने हैं। दो ओटी असिस्टेंट और दो वार्ड असिस्टेंट को 25-25 रुपए मिलेंगे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Government issued a veil to stop Vector Borne Disease