DA Image
22 अक्तूबर, 2020|12:00|IST

अगली स्टोरी

गणपति बप्पा मोरया, मंगलमूर्ति मोरया

गणपति बप्पा मोरया, मंगलमूर्ति मोरया

1 / 5गणपति बप्पा मोरया... मंगलमूर्ति मोरया के जयकारे के साथ गणेश महोत्सव की धनबाद में शुरुआत हो...

गणपति बप्पा मोरया, मंगलमूर्ति मोरया

2 / 5गणपति बप्पा मोरया... मंगलमूर्ति मोरया के जयकारे के साथ गणेश महोत्सव की धनबाद में शुरुआत हो...

गणपति बप्पा मोरया, मंगलमूर्ति मोरया

3 / 5गणपति बप्पा मोरया... मंगलमूर्ति मोरया के जयकारे के साथ गणेश महोत्सव की धनबाद में शुरुआत हो...

गणपति बप्पा मोरया, मंगलमूर्ति मोरया

4 / 5गणपति बप्पा मोरया... मंगलमूर्ति मोरया के जयकारे के साथ गणेश महोत्सव की धनबाद में शुरुआत हो...

गणपति बप्पा मोरया, मंगलमूर्ति मोरया

5 / 5गणपति बप्पा मोरया... मंगलमूर्ति मोरया के जयकारे के साथ गणेश महोत्सव की धनबाद में शुरुआत हो...

PreviousNext

गणपति बप्पा मोरया... मंगलमूर्ति मोरया के जयकारे के साथ गणेश महोत्सव की धनबाद में शुरुआत हो गई। गणेश चतुर्थी पर रविवार को शहर की कई जगहों पर विघ्न विनाशक की मूर्ति पंडालों में स्थापित की गई। विधि-विधान से गणेश के भक्तों ने पूजा-अर्चना की और बुद्धि, समृद्धि और सौभाग्य की कामना की। इस वर्ष गणेश पूजा पर वर्षों बाद महासंयोग बना। ज्योतिषाचार्य पंडित रमेश चंद्र त्रिपाठी ने बताया कि भाद्रपद के शुक्लपक्ष की चतुर्थी तिथि पर दो नक्षत्रों का योग है। गणेश चतुर्थी का आगमन तो हस्त नक्षत्र में हुआ, लेकिन मूर्ति स्थापना व पूजन चित्रा नक्षत्र में हुआ, जो कि मंगलकामना और फलदायी है। शहर के तेलीपाड़ा, बेकारबांध के निरीक्षण भवन, जगजीवन नगर, सरायढेला न्यू कॉलोनी, आईएसएम सहित अन्य जगहों पर पूजा पंडाल में विघ्न विनाशक की मूर्ति स्थापित की गई।

तेलीपाड़ा में 51 किलो के लड्डू का भोग

तेलीपाड़ा सिमलडीह के हिरकेश्वर शिव-पार्वती मंदिर प्रांगण में स्थापित भगवान गणेश को 51 किलोग्राम के मोदक का भोग लगाया गया। इससे पूर्व, फूलों के विशेष पंडाल का एसएसपी किशोर कौशल और विधायक राज सिन्हा ने संयुक्त रूप से फीता काटकर उद्घाटन किया। मंदिर परिसर में मेला भी लगाया गया।

आईएसएम में मनाया गणेश उत्सव

आईएसएम आईआईटी कैंपस में छात्रों और शिक्षकों ने गणेश उत्सव मनाया। आईएसएम के पेनमैन हॉल के सामने और ऑपेन थियेटर में श्रद्धा और उल्लास के साथ गणेशोत्सव मनाया गया। प्रतिमा स्थापित की गई। गणेश पूजा के बाद दर्शन के लिए लोग उमड़े। भक्तों के बीच प्रसाद वितरित किया गया।

बालाजी मंदिर में उमड़े दक्षिण भारतीय

जगजीवन नगर स्थित बालाजी मंदिर परिसर में गणेश की वंदना के लिए दक्षिण भारतीय लोगों का जुटान हुआ। मंदिर परिसर में गणपति की प्रतिमा स्थापित की गई। विधि-विधान से अनुष्ठान किए गए। इसके बाद भक्तों के बीच भोग वितरित किया गया। इधर, बेकारबांध के निरीक्षण भवन में दक्षिण भारतीय लोगों के सहयोग से पंडाल में विघ्न विनाशक की प्रतिमा स्थापित की गई। दिनभर पूजा-पाठ, नृत्य व संगीत का आयोजन हुआ। शाम में भंडारे का आयोजन किया गया।

गणपति बप्पा मोरया से गूंजा शक्ति मंदिर

शक्ति मंदिर परिसर में भी प्रथम पूज्य भगवान श्रीगणेश की प्रतिमा स्थापित की गई। पंडित रमेश चंद्र त्रिपाठी के नेतृत्व में ब्राह्मणों ने गणपति बप्पा की पूजा की। यजमान अरुण कुमार भंडारी व उनकी पत्नी रेणु भंडारी ने 1008 गणेश जी के नाम से दूर्वादल चढ़ाए। पूरे विधि-विधान से अनुष्ठान पूरा किया गया। गणेश की प्रतिमा से पट हटते ही पूरा मंदिर परिसर गणपति बप्पा मोरया के जयकारे से गुंजायमान हो उठा। पूजन, आरती व भजन के बाद भक्तों के बीच मोदक वितरित किया गया। रात आठ बजे भजन संध्या का आयोजन किया गया। मंगलवार की संध्या चार बजे मूर्ति का विसर्जन किया जाएगा। मौके पर मंदिर कमेटी के संयोजक सुरेन्द्र अरोड़ा, संरक्षक आईएम मेनन, अध्यक्ष एसप सोंधी, उपाध्यक्ष राजीव सचदेव, सोमनाथ प्रूथी, कोषाध्यक्ष विपिन अरोड़ा, सह कोषाध्यक्ष सुरेन्द्र ठक्कर, साकेत साहनी, राकेश आनंद, अशोक भसीन सहित समस्त सेवादार व कर्मचारी उपस्थित थे।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Ganpati Bappa Morya Mangalamurthy Morya