DA Image
1 दिसंबर, 2020|8:43|IST

अगली स्टोरी

स्कूल का मोबाइल नंबर बदल कर 335 बच्चों का फर्जी रजिस्ट्रेशन

default image

अल्पसंख्यक बच्चों को मिलनेवाली छात्रवृत्ति मामले में शनिवार को फिर एक बड़ा खुलासा हुआ। संत जेवियर मिशन स्कूल बरवाअड्डा में अल्पसंख्यक के छह ही बच्चे नामांकित हैं, लेकिन स्कूल के लॉगइन से 341 अल्पसंख्यक बच्चों का रजिस्ट्रेशन हो गया है। दावा किया गया है कि स्कूल की ओर से जारी आवेदन में जो मोबाइल नंबर दिया गया था, उसके बदले कोई और मोबाइल नंबर डाला हुआ है। स्कूल के मूल आवेदन में तीन जगह कट कर मोबाइल नंबर बदला गया है। मोबाइल नंबर बदलकर छह के बदले 341 बच्चों का रजिस्ट्रेशन करा दिया गया। यह खुलासा नए सिरे से मोबाइल नंबर में बदलाव कर रजिस्ट्रेशन कराने के बाद हुआ। बताते चलें पिछले दिनों खुलासा हुआ था कि कई निजी स्कूलों के फर्जी बच्चों के नाम पर अल्पसंख्यक छात्रवृत्ति की निकासी की गई है। जिला कल्याण विभाग ने इस मामले की जांच शुरू कर दी है।

संत जेवियर मिशन स्कूल बरवाअड्डा की ओर से कल्याण विभाग को आईडी पासवर्ड के लिए आवेदन दिया गया था। उसमें यू डायस कोड की जानकारी दी गई थी। मामले में स्कूल के घनश्याम साव का कहना है कि मेरे स्कूल के नाम पर कई तरह का फर्जीवाड़ा किया गया है। हमलोगों ने एसो. के माध्यम से जिला कल्याण विभाग में इस संबंध में जानकारी दी है। रविवार को स्थानीय थाने में इस संबंध में सूचना देते हुए एफआईआर दर्ज करने का अनुरोध करेंगे। प्राइवेट स्कूल एसो. के महासचिव प्रवीण दुबे का कहना है कि यह आवेदन सत्र 2020-21 की छात्रवृत्ति के लिए हो रही है। उन्होंने कहा कि अगर सही ढंग से जांच हो तो बड़े रैकेट का खुलासा हो सकता है। अवैध तरीके से बड़ी राशि की निकासी करने के उद्देश्य से उक्त स्कूल को आवासीय श्रेणी में डाला गया था। आवासीय श्रेणी के स्कूल के अल्पसंख्यक बच्चों को 50-50 हजार रुपए मिलते हैं। स्कूल व एसो. की तत्परता के कारण बड़ी राशि की निकासी होते-होते बच गई। हमलोगों ने छात्रवृत्ति फर्जीवाड़े को पीएमओ से शिकायत की है। पीएमओ में शिकायत रजिस्टर्ड कर ली गई है। जिला प्रशासन प्रत्येक बिंदुओं की जांच करे।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Fake registration of 335 children by changing mobile number of school