ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News झारखंड धनबादकंचनजंगा हादसा की आंखों देखी: अचानक जोरदार झटका लगा और चीखने लगे यात्री

कंचनजंगा हादसा की आंखों देखी: अचानक जोरदार झटका लगा और चीखने लगे यात्री

कतरास के रहने वाले माइक्रो फाइनेंस कंपनी के अनुज सिंह का परिवार कंचनजंगा एक्सप्रेस में सवार था। वे सकुशल लौट रहे हैं। दुर्घटना में परिवार के सभी...

कंचनजंगा हादसा की आंखों देखी: अचानक जोरदार झटका लगा और चीखने लगे यात्री
default image
हिन्दुस्तान टीम,धनबादTue, 18 Jun 2024 01:00 AM
ऐप पर पढ़ें

कतरास, प्रतिनिधि
कतरास के रहने वाले माइक्रो फाइनेंस कंपनी के अनुज सिंह का परिवार कंचनजंगा एक्सप्रेस में सवार था। वे सकुशल लौट रहे हैं। दुर्घटना में परिवार के सभी सुरक्षित हैं।

अनुज ने बताया कि वे लोग कामख्या मंदिर का दर्शन कर वापस लौट रहे थे। कंचनजंगा एक्सप्रेस की एसी बोगी में वे लोग सवार थे। ट्रैक पर कंचनजंगा एक्सप्रेस धीमी गति से चल रही थी। इसी बीच उनलोगों अचानक उन्हें जोर का झटका लगा। ट्रेन के बाहर झांक कर देखा तो नजारा कुछ और ही था। यात्रियों के चीखने-चिल्लाने की आवाज से वे पूरा परिवार भयभीत हो गया। उन्हें पता चला कि पीछे से मालगाड़ी ने ट्रेन में टक्कर मार दी है। इंजन पर डिब्बे चढ़ गए हैं। दुर्घटना के बाद अफरातफरी मच गई। चीखने-चिल्लाने का आवाज आने लगी। आनन-फानन में वह अपने परिवार के साथ सकुशल किसी तरह से बोगी से निकले। वहां से ऑटो से सिलीगुड़ी पहुंचे। इसके बाद बस से वे लोग धनबाद के लिए निकल पड़े हैं। अनुज ने बताया कि मां कामाख्या की कृपा से वे सपरिवार सुरक्षित हैं।

मृतकों के प्रति सीपीआईएम ने जताई शोक संवेदना

कंचनजंगा एक्सप्रेस हादसे के मृतकों के प्रति सीपीआईएम ने शोक संवेदना जताई है। साथ ही घटना के कारणों की जांच की मांग की है। सीपीआईएम के जिला सचिव संतोष कुमार घोष ने कहा है कि हर रेल दुघर्टना के बाद इसके कारणों की जांच रेलवे के सुरक्षा आयुक्त से कराया जाता है, लेकिन रिपोर्ट सार्वजनिक नहीं की जाती है। पिछले दिनों ओडिशा रेल दुर्घटना की जांच रिपोर्ट भी अभी तक सार्वजनिक नहीं की गई है। इस रिपोर्ट को सार्वजनिक किया जाना चाहिए। यह भी मांग की गई है कि ऐसी बड़ी दुर्घटनाओं के लिए जिम्मेदार रेल अधिकारियों पर अपराधिक मुकदमा दर्ज किया जाए। मृतकों के परिजनों को पर्याप्त मुआवजा दिया जाए और घायलों को रेलवे के खर्चे पर बड़े अस्पतालों में इलाज कराया जाए।

यह हिन्दुस्तान अखबार की ऑटेमेटेड न्यूज फीड है, इसे लाइव हिन्दुस्तान की टीम ने संपादित नहीं किया है।