DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

संताल में हाथियों का उत्पात : एक महीने में नौ लोगों को कुचलकर मार डाला

संताल परगना में जंगलों से निकलकर हाथियों झुंड आबादी में पहुंच रहे हैं। खाने और पानी की तलाश में वो आक्रामक हैं। लोगों को मार रहे हैं, फसल उजाड़ रहे हैं और घर तोड़ रहे हैं। एक महीने के दरम्यान हाथियों ने नौ लोगों को कुचलकर मार डाला। अकेले सात मौत साहिबगंज जिले में हुई हैं।
साहिबगंज के बोरियो प्रखंड के घोघी पहाड़ पर गुरुवार की सुबह साढ़े छह बजे झुंड से बिछड़े हाथी ने बांस लेकर पहाड़ से नीचे आ रहे एक पहाड़िया ग्रामीण को पटक कर मार डाला। मृतक पंचू पहाड़िया (50) लोहंडा पहाड़ का रहने वाला था। वह साहिबगंज में गुरुवार को लगने वाले साप्ताहिक हाट में बांस बेचने घोघी होकर जा रहा था। गांव से करीब एक किलोमीटर पश्चिम जंगल के बीचोंबीच हाथी आ खड़ा हुआ। पंचू पहाड़िया हाथी को भगाने की कोशिश करने लगा। तभी हाथी ने उसे सूंड में लपेटकर पटक दिया। इससे पंचू पहाड़िया की मौत घटनास्थल पर हो गयी। हाथी ने पंचू के सारे बांसों को पैर से कुचल कर बर्बाद कर दिया। पंचू पहाड़िया कि पीछे बांस लेकर आ रहे दूसरे ग्रामीण यह देख बांस छोड़कर भागते हुए गांव पहुंचे। सूचना पाकर जिरवाबाड़ी ओपी प्रभारी परशुराम पासवान, रेंजर प्रेमचंद शुक्ला व रवीन्द्र तिवारी मौके पर पहुंचे। रेंजर रवीन्द्र तिवारी ने मृतक के पुत्र इंदी पहाड़िया को 25 हजार रुपये नकद आर्थिक सहायता दी है। उन्होंने दो लाख मुआवजा देने का आश्वासन दिया है।
एक महीने के दौरान देवघर के करौं और पालाजोरी में तीन लोगों को हाथियों ने कुचला, जिनमें से दो की मौत हो गई और एक गंभीर घायल हो गया। पांच प्रखण्ड के दर्जनों गांवों में दर्जनों घर, चहारदीवारी और फसल को नुकसान पहुंचाया। दुमका जिले के मसलिया इलाके में गुंदालिया और मसानजोर गांव में हाथियों ने चार घरों को क्षतिग्रस्त किया और घर में रखा अनाज चट कर दिया।

 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Elephants killed nine people in a month in santhal pargana