DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सितंबर तक धनबाद में बिजली संकट होगा दूर

सितंबर तक धनबाद में बिजली संकट होगा दूर

धनबादवासियों को सितंबर तक बिजली संकट झेलना होगा। सितंबर के बाद यानी अक्तूबर से 24 घंटे बिजली देने की तैयारी बिजली विभाग ने शुरू कर दी है। इन दिनों धनबादवासियों को डीवीसी की ओर से रात में लोड शेडिंग के कारण बिजली संकट झेलना पड़ रहा है। यह समस्या दो-तीन दिन में खत्म हो जाने की संभावना है।

बुधवार को धनबाद पहुंचे झारखंड बिजली वितरण निगम लिमिटेड के प्रबंध निदेशक राहुल पुरवार ने कहा कि धनबाद के 1203 गांवों के एक लाख घरों में बिजली कनेक्शन नहीं है। हर व्यक्ति तक बिजली की पहुंच सुनिश्चित करने के लिए पहले जुलाई का लक्ष्य रखा गया था। अब इसे बढ़ाकर सितंबर कर दिया गया है। 24 घंटे बिजली देने के लिए धनबाद में आधारभूत संरचना सितंबर तक तैयार हो जाएगी। सितंबर में ही धनबाद को 24 घंटे बिजली व हर घर को बिजली देने की घोषणा की जाएगी। इसके लिए 15 नए सब स्टेशन, 14 नया फीडर के साथ ही अन्य आधारभूत संरचना को बेहतर किया जा रहा है। धनबाद ग्रामीण क्षेत्रों व तोपचांची में 15 जून, बलियापुर 30 जून, बाघमारा में सितंबर समेत अन्य प्रखंडों के लिए महीना निर्धारित कर दिया गया है। यह ध्यान रखा जा रहा है कि स्कूल, आंगनबाड़ी समेत अन्य लोक कल्याण केन्द्र संस्थान छूटे नहीं।

डीवीसी कमांड एरिया के धनबाद समेत सातों जिलों के लिए झारखंड बिजली वितरण निगम लिमिटेड के लिए अब सीधे डीवीसी जेनरेशन प्लांट से बिजली की खरीदारी करेगा। अब तक आम उपभोक्ता की तरह झारखंड बिजली वितरण निगम लिमिटेड भी डीवीसी से बिजली की खरीदारी कर रहा था। इसकारण कई तरह की परेशानियां हो रही थी। शिड्यूल मोड में खरीदारी के लिए डीवीसी से एग्रीमेंट हो गया है। अब जेनरेशन प्लांट से पावर खरीदेंगे। बुधवार को प्रबंध निदेशक राहुल पुरवार ने धनबाद में बिजली की स्थिति, सुधार के लिए हो रहे काम की समीक्षा की। इस मौके पर डीसी ए दोड्डे भी मौजूद थे।

राहुल पुरवार ने पत्रकारों से कहा कि दिसंबर तक धनबाद नेशनल ग्रिड से जुट जाएगा। चंदनकियारी, गोविंदपुर, महुदा व जैनामोड़ में काम अंतिम चरण में है। गोविंदपुर को एमपीएल से भी जोड़ा जाएगा, ताकि धनबाद को बिजली देने के लिए वैकल्पिक व्यवस्था रहे। 33 केवीए पर दबाव कम हो। इसके लिए चार नए ग्रिड की स्थापना की जा रही है। डीवीसी के साथ इश्यू को दूर किया जा रहा है। 23 सब स्टेशन में भी अतिरिक्त ट्रांसफार्मर लगवाने के साथ ही आर एंड आर वर्क कराया जा रहा है। लाइटनिंग एरेस्टर व एबी स्वीच लगाए जा रहे हैं। एबी केबल लगने के बाद एलटी से चोरी की आशंका खत्म हो गई है। सड़क चौड़ीकरण के कारण पोल शिफ्टिंग व अन्य कारणों से पावर कट किया जा रहा है। उपभोक्ता सहयोग करें। उन्होंने कहा कि जब एक बार शट डाउन लिया जाता था है तो अधिकारी यह प्रयास करें कि उससे संबंधित काम कर लिया जाए। बार-बार उसके लिए पावर कट नहीं करना पड़े। उन्होंने कहा कि मई तक पुराने टैरिफ के अनुसार तथा जून से नई टैरिफ के अनुसार बिलिंग होगी। जल्द ही सेल्फ बिलिंग सिस्टम को शुरू किया जा रहा है। बिल नहीं मिलने की समस्या इससे काफी हद तक दूर हो जाएगी। हाउसिंग कॉलोनी सब स्टेशन के लिए जमीन मांगी गई है। इस मौके पर महाप्रबंधक सुभाष कुमार सिंह, अधीक्षण अभियंता विनय कुमार, कार्यपालक अभियंता रवि प्रकाश के अलावे श्याम कुमार, अवधेश लाल, अमिताभ सोरेन समेत अन्य बिजली अधिकारी मौजूद थे।

कृषि के लिए किसानों को अलग से कनेक्शन

राहुल पुरवार ने बताया कि दीन दयाल योजना के तहत किसानों को अब कृषि कार्य के लिए अलग से तिलका मांझी बिजली कनेक्शन दिया जाएगा। धनबाद में इसके लिए अलग से फीडर व नेटवर्क तैयार किया जा रहा है। अब तक एक ही नेटवर्क से बिजली दिया जा था। नई व्यवस्था के लिए सर्वे का काम पूरा हो गया है। अगले छह महीना में यह तैयार हो जाएगा। अगले मानसून से किसान इसका लाभ उठा पाएंगे। सुबह 7 बजे से 10 बजे तक तथा शाम छह बजे से नौ बजे के बीच बिजली नहीं मिलेगी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Electricity crisis in Dhanbad will go away till September