DA Image
2 जून, 2020|4:32|IST

अगली स्टोरी

40.5 एमटी कोयला उत्पादन से ही पटरी पर लौटेगी अर्थव्यवस्था

बीसीसीएल वित्तीय संकटों के दौर से गुजर रहा है। वेतन एवं कल्याणकारी योजनाएं ठीक से चले इसके लिए 40.5 मिलियन टन कोयला उत्पादन हरहाल में करना होगा। मौजूदा समय चुनौतीपूर्ण है। पांच माह बचे हैं। इसी पांच महीने में परिदृश्य बदलना होगा। सुरक्षा और पर्यावरण का ध्यान रखते हुए गुणवत्तायुक्त कोयले का उत्पादन करना होगा। गुणवत्ता के मुद्दे पर बीसीसीएल को काफी राजस्व का नुकसान हुआ है। ध्यान रखें यह स्थिति अब न हो। उक्त बातें बीसीसीएल सीएमडी एके सिंह ने कोयलानगर कम्यूनिटी हॉल में कोल इंडिया स्थापना दिवस पर आयोजित कार्यक्रम को संबोधित करते हुए गुरुवार को कही।

एक तरफ सीएमडी ने चुनौतियों का जिक्र किया तो दूसरी ओर उम्मीदें भी जगाईं। कहा कि दो साल से एक भी नया प्रोजेक्ट बीसीसीएल में शुरू नहीं हुआ। अब नए प्रोजेक्ट पर काम करेंगे। सीबीएम प्रोजक्ट ,वाशरी, मुनीडीह में दो मेगावाट क्षमता का प्लांट की संभावना का भी संकेत दिया। प्रतिदिन 23 की जगह 29 रैक कोयले का डिस्पैच करेंगे। डीसी लाइन के बंद होने से डिस्पैच पर जो प्रभाव पड़ा है, उस असर को दूर करने में काफी हद तक कामयाबी मिली है। पिछले साल के मुकाबले कोयला उत्पादन में 18 प्रतिशत एवं डिस्पैच में पांच प्रतिशत कमी है। नए लक्ष्य 40.5 मिलियन टन के लिए ज्यादा जोर लगाने की दरकार है। ईमानदारी, लगन व पारदर्शिता से सब संभव है।

सीएमडी ने कोल इंडिया स्थापना दिवस की बधाई देते हुए कहा कि पिछले साल कंपनी लक्ष्य (37 मिलियन टन) हासिल करने के लिए पुरस्कृत हुई है। चालू वर्ष में भी ऐसा ही करना है। सीएसआर की चली योजनाओं का जिक्र किया। वहीं पर्यावरण के क्षेत्र में किए गए काम को सराहा। मौके पर बीसीसीएल के निदेशकगण, स्वतंत्र निदेशकगण, नारी शक्ति समिति सहित बड़ी संख्या में अधिकारी-कर्मचारी मौजूद थे। कार्यक्रम में बीसीसीएल की पर्यावरण पत्रिका पर्यावचरण दर्पण का लोकार्पण भी किया गया।

सस्ता कोयला नहीं बेचे तो एकाधिकार खत्म

सीएमडी ने संकेत दिया कि सौर ऊर्जा से कोयले को चुनौती है। उत्पादन लागत के हिसाब से सौर ऊर्जा कोयले के मुकाबले सस्ता है। इसलिए कोयला कंपनियों को भी कोयले के उत्पादन लागत को एक सीमा तक रखना होगा। यदि ऐसा नहीं कर सकेंगे तो कोयले को लेकर जो एकाधिकार है वह बहुत दिन नहीं रह सकता। घाटे वाली खदानों पर भी सीएमडी ने विचार की बात कही।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Economy to return 40.5 MT from coal production